आंध्र प्रदेश में आसमान से मानो इस समय आफत बरस रही है। राज्‍य के अनंतपुर इलाके में उत्तर-पूर्वी मॉनसून ने कहर बरपाया है। तिरुपति के तिरूमला हिल्‍स में कुछ ही घंटों में 12 से 14 सेमी बारिश हुई।

इसे एक तरह क्‍लाइमेट चेंज का असर ही माना जा रहा है। नौबत यहां तक आ पहुंची कि आमतौर पर सूखा माना जाने वाला तिरुमला हिल्स इलाका कुछ ही घंटों में पानी सेभर गया। तिरुपति मंदिर की ओर से जाने वाले घाट रोड पर कई लोग फंस गए।

जैसे तैसे लोग जान बचा पाए आसमान से बरसी इस आफत के चलते लोग जो सामान बचा पाए, वही उनके पास रह गया। मुश्किल के इस समय में लोग एक-दूसरे को बचाने की कोशिश करते हुए नजर आए. ऐसे ही सामूहिक प्रयासों से पानी में फंसी बस में मौजूद बच्‍चों को बचाया गया।

अधिकारियों का कहना है कि 12 से 14 सेमी की बारिश तिरुपति के लिए झेलना मुश्किल हो गया क्‍योंकि पहले भी बारिश हो गई थी और मिटटी नम हो गई थी। कई जगह लोगों को बचाने के लिए सेना, वायुसना की मदद लेनी पड़ी।

भारी बाारिश से सभी जलाशय भर गए है और हर जगह जल सैलाब नजर आ रहा है। खतरा अभी टला नहीं है अभी भी हजारों लोग घर नहीं पहुच पाए। चिंता की बात यह भी है कि आने वाले दिनों में और बारिश का अनुमान है।

अनंतपुर जिले में बाढ़ में फंसने के कारण जेसीबी पर चढ़े लोगों को बचाने के लिए हेलीकाप्‍टर बुलाना गया, खास बात यह है कि यह इलाका आमतौर पर सूखा ग्रस्‍त है। बारिश इतनी खतरनाक आखिर कैसे हो गई, इसका कारण बताते हुए अधिकारी कहते हैं बारिश काफी हुई, इसके अलावा नालों के ऊपर निर्माण होने के कारण पानी की निकासी होने में भी वक्‍त लगा।

Share.

Comments are closed.