गोवा में निजी दंत चिकित्सकों के एक समूह ने राज्य सरकार द्वारा जैव चिकित्सा अपशिष्ट प्रबंधन शुल्क बढ़ाए जाने को लेकर अपना विरोध दर्ज कराने के लिए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अध्यक्ष जेपी नड्डा के साथ यहां संवाद के दौरान हाथों में काली पट्टी बांध रखी थी।

शहर के एक सिटी होटल में आयोजित भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के कार्यक्रम में दंत चिकित्सकों ने जैव चिकित्सा अपशिष्ट प्रबंधन शुल्क को लेकर बुधवार देर रात को हाथों में काली पट्टी बांधकर प्रदर्शन किया।

इंडियन डेंटल एसोसिएशन डॉ. अनिल डि सिलवा ने पत्रकारों को बताया कि प्रबंधन शुल्क में हुई वृद्धि को लेकर यहां प्रदर्शन कर इसे सरकार के संज्ञान में लाना था।

डॉ. अनिल ने बताया कि जैव चिकित्सा अपशिष्ट प्रबंधन शुल्क में वृद्धि के अलावा चिकित्सकों ने भी कई अन्य मांगों को लेकर प्रदर्शन किया है। सरकार द्वारा दंत चिकित्सकों के साथ अन्याय किया जा रहा है।

उन्होंने यह भी कहा, अन्य राज्यों में बायोमेडिकल कचरा संग्रह की औसत लागत 600 रुपये प्रति माह है। जहां गोवा में 1,800 रुपये से अधिक है।

दंत चिकित्सकों का अचानक विरोध प्रदर्शन उस समय हुआ जब गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत के साथ-साथ राज्य के शीर्ष भाजपा पदाधिकारी स्वास्थ्य मंत्री विश्वजीत राणे सहित सरकार के मंत्री समारोह में मौजूद थे।

बता दें कि, आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा गोवा के दो दिवसीय दौरे पर हैं। आज उनके दौरे का दूसरा दिन है।

Share.

Comments are closed.