केंद्र सरकार ने रेडिमेड गारमेंट्स और टेक्सटाइल्स उद्योग पर GST (गुड्स एंड सर्विस टैक्स) की दर 5 से बढ़ाकर 12% करने का निर्णय लिया है। GST में बढ़ी दर 1 जनवरी 2020 से लागू होगी।

मोदी सरकार के इस फैसले के खिलाफ कपड़ा कारोबारी लामबंद हो गए हैं। इंदौर के भी रेडिमेड गारमेंट्स और टेक्सटाइल्स व्यापारियों में इसे लेकर काफी विरोध है

। सरकार के खिलाफ लामबंदी के लिए अहमदाबाद, सूरत, मुंबई, दिल्ली और दूसरे शहरों के व्यापारियों से रायशुमारी चल रही है। GST की दर वही 5% नहीं रखी गई तो इंदौर और मप्र ही नहीं, बल्कि राष्ट्रीय स्तर पर व्यापक आंदोलन छेड़ने की बात कही जा रही है।

दुकान पर पैम्पप्लेट्स चिपकाकर विरोध

इंदौर में तो एमटी क्लॉथ मार्केट सहित अन्य कपड़ा बाजार एसोसिएशन एकजुट हो गए हैं। हजारों पैम्पप्लेट्स छपवाकर हर दुकान पर चस्पा की गई है। इसमें लिखा है- ‘आम जनता पर एक और मार.. महंगाई की मार, GST 12% फीसदी लगेगा तो इसका भार आम जनता पर ही पड़ेगा।

इसका हम सभी व्यापारी पुरजोर विरोध करते हैं। आप भी इसका विरोध करें। -एमटी क्लॉथ माार्केट मर्चेन्ट्स एसोसिएशन व समस्त व्यापारीगण, इंदौर’।

Share.

Comments are closed.