भारत निर्वाचन आयोग ने आगामी विस चुनाव में मतदान प्रतिशत पिछली बार से अधिक रखने का लक्ष्य राज्य की निर्वाचन मशीनरी को दिया है। उन्होंने आपदा में अपने दस्तावेज खोने वाले मतदाताओं के लिए भी वोटर कार्ड बनाने के लिए विशेष कैम्प लगाते हुए, आयु प्रमाणित करने की प्रक्रिया में जरूरी रियायत देने को कहा है।

राज्य में आगामी विधानसभा चुनाव तैयारियों का जायजा लेने के लिए भारत निर्वाचन आयोग के उप निर्वाचन आयुक्त चन्द्रभूषण कुमार गुरुवार को एक दिनी दौरे पर दून पहुंचे। यहां उन्होंने सचिवालय में तीन चरणों में निर्वाचन, शासन व पुलिस अफसरों के साथ तैयारियों को परखा। मुख्य निर्वाचन अधिकारी सौजन्या के साथ बैठक में उन्होंने ऐसे बूथ चिह्नित करने को कहा, जहां 18-19 आयु वर्ग के युवाओं-महिला वोटरों का पंजीकरण कम है।

उन्होंने कहा कि यदि राज्य में पिछले दिनों आई आपदा में किसी नागरिक की वोटर आईडी नष्ट हो गई है तो संबंधित बीएलओ के माध्यम से उन्हें फोटो आईडी फ्री दी जाएगी। ऐसे मामलों में यदि आयु प्रमाणित करने वाले अन्य दस्तावेज भी नष्ट हो गए हैं तो फार्म -6 के साथ माता, पिता या स्कूल द्वारा हस्ताक्षरित घोषणा पत्र भी स्वीकार किया जाएगा।

उपनिर्वाचन आयुक्त ने आगामी चुनाव में मत प्रतिशत, पिछली बार से ज्यादा रखने की उम्मीद जताते हुए, जागरूकता अभियान चलाने को कहा। आईजी एपी अंशुमन ने बताया, वर्ष 2017 के चुनाव में 76 एफआईआर दर्ज हुई थीं। इसमें 14 व्यक्तियों को कोर्ट से सजा हो चुकी है।

23 मामलों में वाद चल रहा है। उप निर्वाचन आयुक्त ने उन्हें लंबित गैर जमानती वारंट की समीक्षा करते हुए, विस्तृत रिपोर्ट देने को कहा। उन्होंने मुख्य सचिव एसएस संधू के साथ बैठक कर, तैयारियों का जायजा लिया। बैठक में अपर मुख्य सचिव राधा रतूड़ी, डीजीपी अशोक कुमार सहित सभी प्रमुख अधिकारी उपस्थित हुए।

Share.

Comments are closed.