पांच दिन से लापता युवक प्रेमी युगल के कंकाल गांव से आठ सौ मीटर दूर धान के खेत में मिले। युवक के कंकाल के पास दोनों के मोबाइल व कपड़े मिलने से दोनों की पहचान हुई। शव किसी केमिकल से जलाए जाने की आशंका पर गुस्साए ग्रामीणों ने मृत किशोरी के चाचा की पिटाई कर दी।

उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है। भिखरियापुर गांव निवासी रामसिंह निषाद के 22 वर्षीय बेटे बाल किशन का गांव में रहने वाले सजातीय रामकुमार निषाद की 15 वर्षीय बेटी सरला से प्रेम प्रसंग चल रहा था।

13 अक्तूबर को राम सिंह ने पुलिस को तहरीर देकर बताया था कि उसके बेटे बाल किशन को राम कुमार, उसके भाई जयपाल व गांव के गोविंद ने अगवा कर लिया है। पिता रामसिंह ने हत्या की आशंका भी जताई थी। सरला के पिता राम कुमार ने बाल किशन पर बेटी को बहलाकर ले जाने की तहरीर दी थी।

पुलिस ने बाल किशन के पिता को दो दिन तक कोतवाली में बैठाए रखने के बाद छोड़ दिया था। पुलिस ने 17 अगस्त को बाल किशन के खिलाफ किशोरी को भगा ले जाने की रिपोर्ट दर्ज की थी। मंगलवार सुबह गांव का एक कुत्ता मुंह में किशोरी के हाथ का पंजा दबाकर बाल किशन के घर के बाहर पहुंच गया।

घर के बाहर बैठे पिता राम सिंह समेत अन्य लोगों की भीड़ लग गई। इसी दौरान कुत्ता पंजे को वहीं छोड़ खेतों की ओर भागा। राम सिंह के साथ अन्य ग्रामीण भी कुत्ते के पीछे दौड़ पड़े।

गांव से 800 मीटर दूर राम सिंह के धान के खेत में दो कंकाल पड़े मिले। एक कंकाल के पास एंड्रायड मोबाइल, जांघिया व अन्य कपड़े मिलने से परिजनों ने कंकाल बालकृष्ण का बताया।

दूसरे कंकाल के पास दुपट्टा, चप्पल, मोबाइल मिलने से कंकाल सरला का होने की पुष्टि की। बालकृष्ण के परिजनों ने हत्या कर केमिकल से शव जलाए जाने का अंदेशा जताया। आक्रोशित ग्रामीणों ने सरला के चाचा तेजपाल की पिटाई कर दी। 

एसपी अविनाश पांडेय ने बताया कि शव कंकाल का रूप ले चुके हैं। पहचान के लिए डीएनए सैंपल लिया जाएगा। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद सच का पता चल सकेगा। मौके पर मिली चीजों को जांच के लिए लखनऊ विधि विज्ञान प्रयोगशाला भेजा जा रहा है।

Share.

Comments are closed.