नई दिल्ली: लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा के मुख्य आरोपी बनाए जाने को लेकर उनको हटाने की मांग को लेकर किसानों ने सोमवार को पंजाब और हरियाणा के कुछ हिस्सों में रेल रोको आंदोलन किया। उत्तर रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी (सीपीआरओ) ने कहा, “अभी तक 30 स्थान प्रभावित हैं और उत्तर रेलवे क्षेत्र में 8 ट्रेनों को विनियमित किया गया है।”

एक सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि पंजाब में प्रदर्शन कर रहे किसानों ने फिरोजपुर रेल मंडल के चार खंडों को सुबह 5.15 बजे से जाम करना शुरू कर दिया। हरियाणा में भी हिंसा के विरोध में किसानों ने बहादुरगढ़ में रेलवे ट्रैक पर धरना दिया। प्रशासन ने सुरक्षा उपायों को बनाए रखने के लिए सोनीपत रेलवे स्टेशन पर रैपिड एक्शन फोर्स (आरएएफ) भी तैनात किया है।

इस बीच, उत्तर प्रदेश में पुलिस ने सीआरपीसी की 144 धारा लगा दी है, जो एक क्षेत्र में चार लोगों के इकट्ठा होने पर रोक लगाती है। पुलिस ने आंदोलन में शामिल लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की चेतावनी भी दी है। जो लोग नियम का उल्लंघन करते हुए पाए जाते हैं या “सामान्य स्थिति को बाधित करने का प्रयास करते हैं, उनके खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया जाएगा।

3 अक्टूबर को केंद्र के तीन कृषि कानूनों के विरोध में वापस आ रहे किसानों के ऊपर एक चढ़ा दिया गया, जिसकी चपेट में आने से कम से कम आठ लोगों की मौत हो गई थी।

पिछले साल से आंदोलन की अगुवाई कर रही एसकेएम ने आरोप लगाया है कि केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा उस वाहन में बैठे थे, जिसने किसानों को कुचल दिया था। घटना में मरने वालों में चार किसान और एक पत्रकार शामिल हैं।

Share.

Comments are closed.