हरियाणा सरकार के इस क़दम की आलोचना करते हुए कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि अब राज्य के कर्मचारियों को संघ की शाखाओं में भाग लेने की छूट ,सरकार चला रहे हैं या भाजपा-आएसएस की पाठशाला।

साल 1980 से राज्य सरकार के कर्मचारियों पर आरएसएस की गतिविधियों से किसी भी तरह के जुड़ाव पर रोक लगी हुई थी। लेकिन हरयाणा सरकार ने सोमवार को 1967 और 1980 में जारी दो आदेशों को वापस ले लिया इन दोनों आदेशों में सरकारी कर्मचारियों के राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की गतिविधियों में भाग लेने पर रोक थी।

बता दें कि अप्रैल 1980 में हरियाणा के मुख्य सचिव के कार्यालय के तत्कालीन सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा जारी निर्देशों के तहत राज्य सरकार के कर्मचारियों को आरएसएस की गतिविधियों से किसी भी तरह के जुड़ाव से रोक दिया था।

इससे पहले जनवरी 1967 में हरियाणा में मुख्य सचिव के कार्यालय के राजनीतिक एवं सेवा शाखा ने एक निर्देश जारी किया था, जिसमें कहा गया था कि सरकारी कर्मचारियों द्वारा आरएसएस की गतिविधियों में शामिल होने से उनके खिलाफ सेवा नियमों के तहत कार्रवाई होगी। मालूम हो कि भाजपा ने 2014 में पहली बार हरियाणा में पूर्ण बहुमत के साथ सरकार बनाई थी और मनोहर लाल खट्टर सूबे के मुख्यमंत्री बने थे।

Share.

Comments are closed.