AIMIM अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने लखीमपुर खीरी की घटना का जिक्र कर उन्‍होंने कहा कि किसानों को गाड़ी से रौंदकर मारने वाले आशीष मिश्रा के अब्‍बा जान को प्रधानमंत्री मोदी आखिरकार मंत्री पद से क्‍यों नहीं हटाते। आशीष के पिता अजय मिश्रा टेनी केंद्रीय गृह राज्‍य मंत्री हैं।

ओवैसी बोले कि योगी आशीष के अब्‍बा जान को क्‍यों बचा रहे हैं। इसलिए कि उनका नाम अजय मिश्रा है, वो केंद्रीय मंत्री हैं। अजय मिश्रा की जगह यही नाम अतीक अहमद होता तो उसके घर पर बुलडोजर चल चुका होता।

उन्‍होंने कहा, ‘योगीजी! अब्बा जान का नाम अजय है। अगर अतीक होता तो घर पर बुलडोजर चढ़ा दिया जाता। इस मामले में आप चुप क्यों हैं? जनता जानना चाहती है।’ ओवैसी बोले कि ऐसा इसलिए है क्योंकि अजय मिश्रा अपर कास्‍ट के हैं। चुनाव नजदीक हैं। उसे अपर कास्‍ट के वोट नहीं मिलेंगे। अगर आशीष के स्थान पर उसका नाम अतीक होता, तो क्या वो उसके घर पर बुलडोजर नहीं चलाते?

ओवैसी ने कहा, ‘नरेंद्र मोदी ने अजय मिश्रा को कैबिनेट से क्यों नहीं हटाया? अगर पिता मंत्री हैं, गाड़ी उन्हीं की है, इससे 5 किसानों की मौत हुई, उन्‍होंने लोगों को चेतावनी दी और 2 दिन बाद 5 किसान मारे गए, तो नरेंद्र मोदी उन्हें बर्खास्त क्यों नहीं करते?’

लखीमपुर खीरी हिंसा में मुख्य आरोपी केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा को शनिवार रात को गिरफ्तार कर लिया गया था। लखीमपुर में क्राइम ब्रांच के दफ्तर में करीब 12 घंटे तक चली पूछताछ के बाद आशीष को गिरफ्तार किया गया था।

इसके बाद अशीष को देर रात जूडिशियल मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया गया। यहां से आशीष मिश्रा को सोमवार तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। इस मामले में अब सोमवार को सुनवाई होगी। पूछताछ के दौरान आशीष मिश्रा ने कई सवालों के जवाब नहीं दिए। इसके बाद उसकी गिरफ्तारी हुई।

Share.

Comments are closed.