अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरि की मौत के मामले में मुख्य आरोपी आनंद गिरि को जेल की हाई सिक्योरिटी बैरक में रखा गया है। उनकी हर एक गतिविधि पर सीसीटीवी से नजर रखी जा रही है।

नरेंद्र गिरि की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत के मामले की जांच सीबीआई कर रही है। योग गुरु और छोटे महंत के नाम से प्रसिद्ध आनंद गिरि से कभी मिलने वालों का लेटे हनुमान मंदिर पर तांता लगा रहता था पर आज जेल में वो किसी से नहीं मिलना चाह रहे हैं। उन्होंने जेल अधीक्षक को सख्त कहा है कि कोई भी आए मना कर देना।

विलास्ता का जीवन जीने वाले बाबा 10 बाई 10 की बैरक में सीमेंट की खाट

आनंद गिरी को करीब 10 बाई 10 की बैरक में रखा गया है। यह बैरक हाई सिक्योरिटी है और सीसीटीवी से लैस है। यहां आनंद गिरि को हाई प्रोफाइल होने के बाद भी कोई अतिरिक्त सुविधा नहीं दी गई है।

बैरक में एक साधारण कैदी की तरह ही उन्हें ट्रीटमेंट दिया जाता है। वैभवशाली जीवन जीने वाले आनंद गिरि को सीमेंट के बेड पर सोना पड़ रहा है। उसकी चौड़ाई इतनी कम है कि करवट भी ठीक से नहीं लिया जा सकता।

Share.

Comments are closed.