उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी हिंसा के बाद से सियासत धधक रही है. 55 घंटे बीत जाने के बीच घटना से जुड़े कम से कम 10 वीडियो सामने आ चुके हैं, लेकिन अब तक 8 लोगों की मौत के मामले में एक भी गिरफ्तारी नहीं हुई है.

गिरफ्तारी के नाम पर बस प्रियंका गांधी शांति भंग के आरोप में गिरफ्तार हुई हैं. इस मामले में नामजद गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा से कोई पूछताछ नहीं हुई है.

आशीष मिश्रा को नहीं है FIR की जानकारी

वहीं, जिस घटना के दो दिन बाद तक मृतक किसान के परिजन अंतिम संस्कार तक से इनकार करते हैं, वहां आरोपी आशीष मिश्रा को घटना के तीसरे दिन बाद भी खुद पर हुई एफआईआर की जानकारी नहीं है. खैर जवाब जांच से ही मिलेंगे, लेकिन सवाल तो ये है कि जिन वीडियो के आधार पर तमाम लोग देश में अपनी अपनी राय बनाने लग गए हैं. उन्हीं वीडियो के सामने आने के बाद भी क्या मंत्री के आरोपी बेटे से पूछताछ करना जरूरी नहीं हुआ?

ये बात सच है कि सबूत जुटाकर ही पुलिस किसी को गिरफ्तार कर सकती है. लेकिन जिन तमाम वीडियो के आधार पर आरोप लगाए जा रहे हैं, वहां क्या आरोपी आशीष मिश्रा से भी पूछताछ तुरंत नहीं होनी चाहिए ? ताकि जांच तेज हो और एक संवेदनशील मुद्दे पर राजनीतिक बंद हो.

लखीमपुर खीरी के किसान क्यों बने प्रदर्शनकारी?

इस पूरे घटनाक्रम से पहले एक सवाल उठा कि आखिर उत्तर प्रदेश के केंद्र में मौजूद लखीमपुर खीरी के किसान क्यों प्रदर्शनकारी बने? दावा हुआ था केंद्रीय गृह राज्य मंत्री के सितंबर के आखिरी में दिए गए उस बयान के कारण, जिसमें किसानों को दो मिनट में सिखाने की बात उन्होंने कही थी. इस बयान में केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा खुद के सांसद, विधायक होने से पहले का अपना इतिहास याद दिलाते दिखाई दिए थे.

Share.

Comments are closed.