“यह कैसा महिला सम्मान” बता दें कि एक तरफ तो सरकार के द्वारा महिलाओं के हक में और सम्मान में लाख दावे कहकर अभियान चलाने की बात सामने आती है, तो वही जनपद जालौन में एक महिला और उसके साथियों की उच्च अधिकारियों से शिकायत के बाद भी मामले में कोई कार्यवाही अमल में लाई ही नहीं जा रही, जिससे आहत डिप्रेशन में आकर पीड़ित महिला अचेत हो गई और इमरजेंसी वार्ड में भर्ती भी हो गई!

बता दें कि जालौन के राजकीय मेडिकल कॉलेज में वैश्विक महामारी कोरोना काल में अपनी जिंदगी की परवाह किए बगैर पिछले 1 वर्ष से कोरोना लैब वार्ड में कार्यरत लगातार अपनी सेवाएं दे रहे रिसर्च साइंटिस्ट पद के तीन कर्मचारी जिनमें दो महिलाएं शामिल हैं को लगातार प्रताड़ना का शिकार होना पड़ रहा है! कभी मानसिक रूप से तो कभी आर्थिक रूप से!

पीड़िता ने इसकी शिकायत मेडिकल के प्राचार्य सहित जनपद के आला अफसरों एवं प्रदेश के मुखिया तक की लेकिन शिकायत करने के बाद उनका उत्पीड़न और अधिक किया जाने लगा!

जहां महिला डिप्रेशन में आकर गंभीर रूप से इमरजेंसी वार्ड में अस्पताल में भर्ती हो गई यह खबर सुनकर अस्पताल प्रशासन के हाथ पांव फूल गए! अब देखना यह होगा कि महिला के अस्पताल में भर्ती होने के बाद प्रशासनिक अधिकारियों के द्वारा उसे न्याय मिलेगा या नहीं !

जालौन से संवाददाता अली जावेद की रिपोर्ट

Share.

Comments are closed.