शाहजहांपुर (उत्तर प्रदेश), छह अक्टूबर समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने बुधवार को किसानों से एकजुट होकर राज्य की भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार को उखाड़ फेंकने का आह्वान किया।

यादव ने बड़ा गुरुद्वारा नानकपुरी में संत बाबा सुखदेव सिंह जी भूरिवालों की सालाना बरसी कार्यक्रम में पिछले रविवार को लखीमपुर खीरी में हुई हिंसक घटना में मारे गए चार किसानों को याद करते हुए कहा कि लखीमपुर खीरी में किसानों के साथ जो भी हुआ वह इतिहास के क्रूरतम शासकों के राज में भी नहीं हुआ होगा।

उन्होंने भाजपा पर किसानों के साथ वादाखिलाफी और जुल्म करने का आरोप लगाते हुए किसानों का आह्वान किया कि वे इस सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए एकजुट हो जाएं और कहा कि इस सरकार को हटाना जरूरी है क्योंकि सरकार की सबसे बड़ी जिम्मेदारी हमारे किसानों की सुरक्षा और खुशहाली है।

अखिलेश ने कहा “किसान पिछले करीब एक साल से नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। इसके लिए किसानों को सरकार के तमाम तरह के जुल्मों का सामना करना पड़ा। मगर जो आंदोलन दिल्ली की सीमा से शुरू हुआ था वह आज गांव गांव तक पहुंच चुका है। हम आपको भरोसा दिलाते हैं कि समाजवादी पार्टी आप के आंदोलन के साथ पूरी ईमानदारी से खड़ी है।”

उन्होंने लखीमपुर खीरी की घटना का जिक्र करते हुए कहा “हाल में जो घटना हुई, वह हमें याद दिलाती है कि किस तरह से अंग्रेजों ने अन्याय किया था। आज भाजपा की सरकार उन अंग्रेजों से भी आगे निकल गयी है। गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा और उनके बेटे का अहंकार देखिए। मिश्रा पहले किसानों को धमकी देते हैं और इसी का परिणाम है कि उनका बेटा गाड़ी लेकर निकला और हमारे किसान भाइयों, हमारे सिख भाइयों को कुचलने का काम किया है।”

सपा अध्यक्ष ने कहा “हमें पूरा भरोसा है कि न्याय मिलेगा और जब तक न्याय नहीं मिलेगा, सपा आपके साथ कंधे से कंधा मिलाकर इस लड़ाई को लड़ेगी।

Share.

Comments are closed.