5 अक्टूबर को आतंकवादियों ने दो घंटे के भीतर 3 नागरिकों की हत्या कर दी। इनमें से 2 हत्याएं श्रीनगर में महज एक घंटे के अंदर हुईं। आतंकियों ने सबसे पहले श्रीनगर में मशहूर फार्मेसी स्टोर बिंदरू मेडिकेट के मालिक माखन लाल बिंदरू को गोली मारी।

उसके बाद श्रीनगर और बांदीपुरा में हत्याओं को अंजाम दिया गया। बिंदरू की हत्या की जिम्मेदारी द रेजिस्टेंस फ्रंट (TRF) नाम के कथित आतंकी संगठन ने ली है।

बिहार के स्ट्रीट वेंडर की भी हत्या

बिंदरू की हत्या के बाद श्रीनगर में आतंकियों ने पानीपुरी बेचने वाले एक स्ट्रीट वेंडर की निशाना बनाया। उसकी पहचान बिहार के भागलपुर निवासी वीरेंद्र पासवान के रूप में हुई है।

आतंकवादियों ने उस पर भी गोलियां चलाई थीं. इससे पहले उत्तरी कश्मीर के बांदीपोरा जिले में अज्ञात बंदूकधारी ने एक और नागरिक की गोली मारकर हत्या कर दी. मोहम्मद शफी लोन उर्फ सोनू को हाजिन में गोली मारी गई. उन्हें इलाज के लिए अस्पताल लाया गया, लेकिन वहां उन्होंने दम तोड़ दिया।

दुकान में दवा दे रहे थे, तभी मारीं गोलियां

आतंकवादियों ने श्रीनगर के इकबाल पार्क के पास माखन लाल बिंदरू पर उनकी फार्मेसी में उस वक्त गोलियां चलाईं, जब वह लोगों को दवाइयां दे रहे थे। गंभीर रूप से घायल बिंदरू को अस्पताल ले जाया गया, जहां उन्होंने दम तोड़ दिया।

बताया जा रहा है कि बिंदरू कश्मीरी पंडित समुदाय से थे. वह उन कुछ लोगों में शामिल थे, जिन्होंने 1990 के दशक में जम्मू कश्मीर में आतंकवाद शुरू होने के बाद भी पलायन नहीं किया. बिंदरू अपनी पत्नी के साथ श्रीनगर में ही रहे और अपनी फार्मेसी ‘बिंदरू मेडिकेट’ चलाते रहे।

Share.

Comments are closed.