कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु में कोरोना का भयंकर विस्फोट हुआ है। बेंगलुरु में इलेक्ट्रॉनिक सिटी के एक आवासीय स्कूल के कम से कम 60 स्टूडेंट्स की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है, जिससे हड़कंप मच गया है।

इन कोरोना पॉजिटिव छात्रों में से एक छात्र को तेज बुखार था, जिसका लेडी कर्जन और बॉरिंग अस्पताल में इलाज चल रहा है, जबकि एक अन्य को होम क्वारंटाइन में रखा गया है। हालांकि, कोरोना के इस विस्फोट के बाद स्कूल को बंद कर दिया गया है।

श्री चैतन्य गर्ल्स रेसिडेंशियल स्कूल के बाकी बचे छात्राओं को स्कूल परिसर में ही एक आइसोलेशन सुविधा में क्वारंटाइन किया गया है। ये सभी असिंप्टोमेटिक हैं।

नगर निकाय के अधिकारियों ने कहा कि एक निजी स्वास्थ्य सुविधा के कर्मचारी उनकी देखभाल कर रहे हैं। स्कूल अब बंद कर दिया गया है और 20 अक्टूबर या उसके बाद फिर से खुल सकता है।

दरअसल, स्कूल ने 5 सितंबर को सीनियर स्टूडेंट्स के लिए क्लास को फिजिकली शुरू किया था। 22 शिक्षकों समेत 57 पूरी तरह से वैक्सीन ले चुके कर्मचारियों और और 485 छात्रों के साथ स्कूल दोबारा खुला था।

मगर 26 सितंबर को बेल्लारी से आई एक छात्रा में बुखार, उल्टी और दस्त जैसे लक्षण विकसित होने लगे, जिसके बाद उसे कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया।

बृहत बेंगलुरु महानगर पालिक के अधिकारियों के अनुसार, सभी छात्राओं का टेस्ट किया गया। रैपिड एंटीजन टेस्ट से गुजरने वाले 105 छात्रों में से 27 संक्रमित पाए गए, जबकि आरटीपीसीआर परीक्षण से गुजरने वाले 424 स्टूडेंट्स में से 33 अन्य पॉजिटिव निकले।

द हिंदू की एक रिपोर्ट के अनुसार, जिला स्वास्थ्य अधिकारी जी श्रीनिवास ने कहा कि 27 सितंबर को छात्रों का परीक्षण किया गया था। उन्होंने कहा कि संक्रमितों में 14 तमिलनाडु और 46 कर्नाटक के विभिन्न हिस्सों से थे।

Share.

Comments are closed.