अमौसी गांव में महेश लोधी की घर के अंदर ही हत्या कर दी गई। सोमवार सुबह बिस्तर पर खून से लथपथ शव पड़ा मिला। पुलिस और फॉरेंसिक टीम ने घटनास्थल का निरीक्षण किया।

पुलिस ने कमरे से शराब की कई बोतलें बरामद की है। इंस्पेक्टर सरोजनीनगर ने बताया कि आशंका है नशे की हालत में गिरने से मौत हुई हो। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई की जाएगी।

अमौसी निवासी महेश लोधी प्राइवेट नौकरी करता था। सोमवार सुबह उसका दोस्त मिथलेश रोजाना की तरह घर पहुंंचा। महेश को कई आवाज दी जब वह नहीं उठा तो पास पहुंचा। उसको बिस्तर पर खून से लथपथ हालत में पड़ा देख शोर मचाता हुआ बाहर निकला।

इसके बाद मिथलेश ने पुलिस को घटना की जानकारी दी। इंस्पेक्टर महेंद्र कुमार सि‍ंह पुलिस बल के साथ पहुंचे। फॉरेंसिक टीम ने भी घटनास्थल का निरीक्षण किया। इंस्पेक्टर ने बताया कि मिथलेश से पूछताछ में पता चला कि रविवार रात महेश ने उसे, कासिम और मनीष को घर बुलाया था।

सभी ने शराब पी और खाना खाया। इसके बाद सब चले गए। चूंकि मिथलेश मुहल्ले में ही रहता है। वह रोजाना सुबह महेश के घर आता था। सोमवार सुबह भी गया था।

इंस्पेक्टर ने आशंका जताई है कि नशे में गिरने से महेश की मौत हुई है। महेश की मौत के संबंध में कई बिंदुओं पर जांच की जा रही है। परिवारीजन ने इस संबंध में अभी कोई तहरीर नहीं दी है।

शराब का आदी था, कई साल पहले पत्नी ने भी छोड़ दिया था : मिथलेश ने बताया कि महेश शराब का आदी था। करीब 10 साल पहले उसकी पत्नी भी छोड़कर चली गई थी। महेश के दो भाई और बहन है। वह सब अलग रहते हैं। महेश आस पड़ोस के लोगों से ज्यादा मतलब भी नहीं रखता था।

कान में सरिया डालकर मारा गया : स्थानीय लोगों का कहना है कि महेश के कान से खून निकल रहा था। आशंका है कि हत्यारों ने उसके कान में सरिया अथवा कोई नुकीली वस्तु डाली होगी, जिससे खून निकला और उसकी मौत हो गई।

Share.

Comments are closed.