दशाश्वमेध थाना क्षेत्र के पत्थर गलियां निवासी संजय सहगल उर्फ बब्बल पर एक महिला के द्वारा दुराचार का गंभीर आरोप लगाया गया है, जिसके सम्बन्ध में दशाश्वमेध थाने पर मुअसं. 33/2021 अन्तर्गत धारा 354, 354क, 342, 376, 506 दर्ज कराया गया है।

जिसमें उक्त मुकदमें की विवेचना कर रहे विवेचक कृपाशंकर त्रिपाठी के द्वारा आरोपी को गिरफ्तार करने का काफी प्रयास किया जा रहा है, परन्तु शातिर किस्म का आरोपी संजय सहगल पुलिस को गच्चा देने में हमेशा कामयाब हो जा रहा है।

वहीं आरोपी के द्वारा माननीय उच्च न्यायालय में गिरफ्तारी पर रोक लगाने के लिये गुहार भी लगायी गई थी, परन्तु माननीय उच्च न्यायालय ने मामले की गंभीरता को देखते हुये आरोपी को कोई राहत प्रदान नहीं किया। जिसमें गिरफ्तारी होने से बचने के लिये आरोपी फरार बताया जा रहा है। जिसे लेकर पीड़िता के साथ ही मुकदमें की विवेचना कर रहे विवेचक भी काफी परेशान हो रहे है।

वहीं ताजा घटनाक्रम की बात करें तो पीड़िता के अधिवक्ता अजय कुमार गेठे के द्वारा बताया गया कि एक-दो दिन पूर्व शाम को पीड़िता कुछ खरीददारी करने के लिये दालमण्डी बाजार में पहुंची तो वहीं दालमण्डी में आरोपी संजय सहगल को देखा जो अपने पुत्र आर्यन की दुकान पर बैठा हुआ था, जिसमें तत्काल पीड़िता के द्वारा विवेचक कृपाशंकर त्रिपाठी को बतौर मोबाईल उसके मौजूद होने की सूचना दी गयी। वहीं जब पीड़िता को देख आरोपी संजय सहगल भागने का प्रयास किया तो पीड़िता ने आरोपी को दौड़ाकर पकड़ लिया।

जिसमें वहीं कटरे में स्थित एक दुकानदार के द्वारा जबरन आरोपी को पीड़िता के हाथ से छुड़ा दिया गया जिससे आरोपी पूर्व सभासद कमाल के गली से भागने में सफल रहा।

आगे बताते हुये अधिवक्ता अजय कुमार गेठे ने बताया कि आरोपी संजय सहगल खुलेआम अपने घर व अपने पुत्र की दुकान सहित पूरे शहर में घूम रहा है। जिसकी सूचना सम्बन्धित मुकदमे के विवेचक कृपाशंकर त्रिपाठी को दी जा रही है, परन्तु पुलिस आरोपी को पकड़ने का प्रयास बिल्कुल भी नहीं कर रही है।

जबकि इसके सम्बन्ध में क्षेत्राधिकारी दशाश्वमेध को भी जानकारी दी गयी है, परन्तु कोई गिरफ्तारी का प्रयास नहीं किया जा रहा है, और अधिकारी इस मामले में ढुलमुल रवैया अपना रहे है, जिसके सम्बन्ध में आज तमाम अधिकारीगणों के साथ महिला आयोग से भी पीड़िता ने गुहार लगाया है।

वहीं इस सम्बन्ध में जब मुकदमें की विवेचना कर रहे विवेचक से बात की गयी तो उनके द्वारा बताया गया कि हम मौके पर गये थे, परन्तु हमारे पहुंचने से पहले ही आरोपी फरार हो चुका था। ऐसी कोई बात नहीं है कि आरोपी को हम पकड़ना नहीं चाहते,परन्तु वह फरार चल रहा है, जिसके लिये पुलिस बराबर दबिश दे रही है, और जल्द ही आरोपी को गिरफ्तार कर माननीय न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत किया जायेगा।

आगे बताते चले कि कुछ लोगों के द्वारा सोशल मीड़िया वाट्सएप पर इस तरह की अफवाह फैलायी गयी कि दालमण्डी में बुर्का ओढ़कर महिलाये कर रही गुण्डागर्दी, तो आपको बताते चले कि जिस महिला व पुरुष के साथ अन्याय होगा, तो वह न्याय पाने के लिये कोई न कोई रास्ता तो अपनायेगा ही, फिर उसने अपने मुकदमें के आरोपी को पकड़ने का प्रयास किया, जिसे पुलिस भी तलाश कर रही है। वह पीड़िता है न कि कोई गुण्डा या बदमाश।

Share.

Comments are closed.