उत्तर प्रदेश में बीयर बनाने वाली छोटी इकाइयों (माइक्रो ब्रेवरीज) की संख्या बढ़ाने की फैसला योगी सरकार ने किया है. इसके साथ ही शापिंग मॉल में विदेशी और अंग्रेजी शराब की दुकानें की संख्या भी बढ़ाई जाएगी।

आबकारी विभाग की समीक्षा बैठक में अपर मुख्य सचिव संजय आर.भूसरेड्डी ने सभी जिला आबकारी अधिकारियों को निर्देश दिये कि अब तक नोएडा,

गाजियाबाद, बरेली, लखनऊ, आगरा में कुल 11 माइक्रोबिवरीज लगाई जा सकी हैं और प्रीमियल रिटेल वेंड शाप भी अभी संख्या में कम ही खुल पाये हैं. बड़े शहरों में माइक्रोब्रिवरी और प्रीमियम रिटेल वेंड शॉप खुलने की पर्याप्त सम्भावना हैं।

उन्होंने सभी जिला आबकारी अधिकारियों से कहा कि वे अपने जिलों में इच्छुक लोगों से संपर्क कर अधिक से अधिक माइक्रोबिवरी और प्रीमियम रिटेल वेंड शॉप खोले जाने के लिए प्रयास करे।

माइक्रो बेवरी एवं प्रीमियम रिटेल वेंड शाॅप के संबंध में समीक्षा करते हुए यह भी कहा कि कोविड के दौरान रिटेल ब्रांड शाप नहीं खुल पाई, प्रयास कर के अधिक से अधिक खुलवाने का प्रयास किया जाए।

होटल, बार एवं बार रेस्टोरेन्ट अनुज्ञापन के प्राप्त आवेदन पत्रों जो अभी तक लम्बित हैं, उन पर शीघ्र कार्यवाही पूर्ण कराने का निर्देश दिया गया।

प्रवर्तन की कार्यवाही की समीक्षा में सभी जनपदों को अवैध शराब के निर्माण, विक्रय और तस्करी पर पूर्ण अंकुश लगाया जाय और परिणाम दायी प्रवर्तन कार्यवाही किया जाना सुनिश्चित किया जाय।

इसके साथ ही आबकारी आयुक्त द्वारा नदियों के कछार इलाकों में अवैध कच्ची शराब बनाये जाने वाले अड्डों तथा इण्डस्ट्रियल एरिया में नकली शीशी, ढ़क्कन आदि बनाये जाने की फैक्ट्रियों, बहुत दिनों से बन्द पड़े स्थानों तथा कोल्ड स्टोरेज को लगातार चेक करने का निर्देश दिया गया।

आबकारी आयुक्त ने पश्चिमी जिलों के बार्डर पर अवैध शराब की तस्करी की रोकथाम कि लिए चौकस रहने का कड़ा निर्देश दिया गया है।

Share.

Comments are closed.