मध्य प्रदेश के ग्वालियर-चंबल इलाके में राजा मिहिर भोज की जाति को लेकर देा वर्गों में विवाद की स्थिति बन गई, इतना ही नहीं दोनेा में संघर्ष तक के हालात बन गए। गुरुवार की रात शुक्रवार की सुबह को सड़क पर उतर कर पथराव कर वाहनों में तोड़फोड़ की है। प्रशासन ने मुरैना में निषेधाज्ञा 144 लगा दी है।

बताया गया है कि मुरैना ग्वालियर में सम्राट मिहिर भोज की प्रतिमा लगाई गई है। इस प्रतिमा के नीचे लगाई गई जिला में राजा केा गुर्जर जाति का बताया गया है । इसी बात को लेकर गुर्जर व क्षत्रिय समुदायों में विवाद है। उनके बीच विवाद संघर्ष में बदल गया, क्योंकि दोनों राजा को अपनी-अपनी जाति का बताते हैं।

इस मामले केा लेकर गुरुवार केा मुरैना में दोनों वर्ग आमने सामने आ गए। एक वर्ग के लेाग सड़क पर आ गए जाम भी लगाया। सड़क पर उतरे लोगों का कहना था कि पटिटका में सम्राट की जिस जाति का उल्लेख है वह गलत है। भीड़ जमा होने पर पुलिस मौके पर पहुॅची लोगों केा हटाने के लिए हल्का बल प्रयोग भी किया। देर रात केा फिर लोग सड़क पर आ गए वाहनों में तोड़फोड की।

बीते दो दिनों में अब तक सात वाहनों में तोड़फोड़ की गई है, वहीं पुलिस अधीक्षक ललित शाक्यवार ने शरारती तत्वों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने के निर्देश दिए है।

मुरैना जिला प्रशासन के दखल के चलते गुरुवार को मामला शांत हो गया था, मगर शुक्रवार की सुबह फिर कुछ लोगों ने सड़क पर उतरकर वाहनों पर पथराव कर तोड़फोड़ की है। प्रशासनिक सूत्रों के अनुसार प्रशासन ने एहतियातन धारा 144 लागू कर दी है।

Share.

Comments are closed.