ऑल इंडिया यूनाइटेड विश्वकर्मा शिल्पकार महासभा के तत्वावधान में विश्वकर्मा पूजा दिवस 17 सितंबर को अवकाश की मांग को लेकर राष्ट्रीय अध्यक्ष अशोक कुमार विश्वकर्मा के नेतृत्व में चलाएं जा रहे आंदोलन के क्रम में गुरुवार को सुंदरपुर में काले गुब्बारे छोड़कर सरकार की हठधर्मिता के खिलाफ आक्रोश जताया गया।

इस मौके पर राष्ट्रीय अध्यक्ष ने योगी सरकार पर धार्मिक आस्था को ठेस पहुंचाने एवं संवेदनहीनता का आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार की भेदभाव वाली दोहरी नीतियों ने विश्वकर्मा शिल्पकार समाज के करोड़ों लोगों को निराश किया है।

उन्होंने कहा देश में अनेक राजनेताओं, देवी-देवताओं,धर्मगुरुओ व महापुरुषों के सम्मान में तथा पर्वों के अवसर पर सरकार ने सार्वजनिक अवकाश घोषित कर रखा है।

संपूर्ण सृष्टि के निर्माण और विकास में महत्वपूर्ण योगदान करने वाले सृजन तथा निर्माण के देवता देव शिल्पी भगवान विश्वकर्मा के सम्मान में पूर्व घोषित अवकाश को रद्द करके योगी सरकार ने समाज के लोगों के धार्मिक आस्था परंपरा और पहचान के साथ घोर भेदभाव एवं अन्याय किया है।

सरकार ने भगवान विश्वकर्मा के जीवन चरित्र को शैक्षिक पाठ्यक्रम में शामिल करने की घोषणा करके भी पूरा नहीं किया तथा समाज को धोखा दिया। उन्होंने बताया कि कल 17 सितंबर को देशभर में विश्वकर्मा पूजा दिवस को विश्वकर्मा समाज के लोग अवकाश की मांग को दोहराते हुए संकल्प दिवस के रूप में मनाएंगे।

कार्यक्रम में प्रमुख रूप से जिला अध्यक्ष नंद लाल विश्वकर्मा नगर अध्यक्ष भैरव प्रसाद विश्वकर्मा सुरेश विश्वकर्मा महेंद्र विश्वकर्मा, केदारनाथ विश्वकर्मा, रेमन विश्वकर्मा, रामकिशोर विश्वकर्मा, दयाल हिमांशु, राज कुमार, राज, रामप्रसाद, मुन्ना, संतोष, लुलुर, निर्मला देवी, श्याम सुंदरी, सोनी पाल समेत बड़ी संख्या में लोग उपस्थित थे।

Share.

Comments are closed.