गरीबों को आवास दिलाने का लॉलीपॉप दिखा कर किया जाता है विश्वासघात

अपात्रों को दिए जाते हैं आवास गरीब परिवार के लोग रह जाते हैं आवास पाने के लिए वंचित
चुनाव के समय प्रधान जी विकास कार्य कराने आवास दिलाने के नाम पर
गरीबों को हमेशा छला जाता है.

पात्रों को आवास दिलाने के लिए करते हैं मोटी रकम की मांग
जब गरीब लोग आवास के लिए पैसे नहीं दे पाते हैं तो काट दिए जाते हैं आवास,ग्राम प्रधान पात्रों से मोटी रकम लेकर दिलाते है आवास.

यह सब अधिकारियों की मिलीभगत से प्रधान जी करते हैं गोलमाल,ऐसा ही मामला निकल कर आया है औरैया जनपद केविकासखंड भाग्यनगर कीग्राम पंचायत दौलतपुर से जहां पर विकास के नाम पर गरीब जनता को ठगा गया.

जहां पर गरीब झोपड़िया में रहकर अपना जीवन व्यतीत कर रहे हैं,इस ग्राम पंचायत के लोगों ने लगाए पूर्व प्रधान डॉ उमाशंकर वर्मा पर गंभीर आरोप.

पूर्व प्रधान जानी-मानी हंसती है जो पैसे से डॉक्टर हैं और चुनाव के समय में गरीब लोगों से बड़े-बड़े वादे कर उन को गुमराह कर प्रधानी का चुनाव जीत जाने के बाद ग्राम पंचायत दौलतपुर में विकास के नाम पर जनता को दिखाया ठेंगा

जहां पर लोग झोपड़ी में रहकर अपने परिवार के साथ जीवन काट रहे हैं.
यहां की ग्रामीणों ने प्रधान पर आवास के नाम पर पैसे लेने का भी आरोप लगाया है,
पैसे देने के बावजूद भी प्रधान जी ने नहीं दिलाई आवास.

सफाई के नाम पर इस ग्राम पंचायत में कभी नहीं आए सफाई कर्मी आप खुद ही समझ सकते हैं इन गलियों की हालातों को देखकर किस तरह बदबूदार कीचड़ से भरी पड़ी हुई नालियां.

दलित बस्तियों की गलियों में नहीं हुआ कोई भी पक्का निर्माण जहां पर बरसात के मौसम में लोग फिसल फिसल कर गिरते हैं यहां के लोगों ने बताया आज आज तक कोई भी सफाई कर्मी नहीं आया ग्राम विकास अधिकारी और प्रधान जी दोनों मिलकर करते हैं सरकारी धन से अपने घरों का विकास पूरी ग्राम पंचायत दौलतपुर की गलियों की दुर्दशा देखकर आप भी रह जाएंगे दंग.विकास कार्यों को आज तक नहीं देखने आते हैं कोई जिले की उच्च अधिकारी योगी जी किस तरह आपकी योजनाओं को ग्राम प्रधान व ग्राम विकास अधिकारीमिल कर किस तरह लगा पलीता इन गरीब दलित लोगों की दुर्दशा देखकर आप भी रह जाएंगे दंग.

Share.

Comments are closed.