उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के ‘अब्बाजान’ वाले बयान पर एनडीए के भीतर से भी आपत्ति आने लगी है. इसी हफ़्ते योगी ने उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा था कि 2017 में बीजेपी की सरकार आने से पहले अब्बाजान कहने वाले वाले राशन हजम कर जाते थे. योगी के इस बयान को मुसलमानों को टारगेट करने के तौर पर लिया गया है.

बिहार और केंद्र में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) के प्रमुख सहयोगी जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजीव रंजन सिंह (लल्लन सिंह) ने मंगलवार को कहा कि राजनीतिक पार्टियों को अपने बयानों में संयम बरतना चाहिए.

उन्होंने कहा कि भारत हिन्दू, मुसलमान, ईसाई और बाक़ी मज़हबों के अनुयायियों के लिए भी है. इस ख़बर को अंग्रेज़ी अख़बार द हिन्दू ने प्रमुखता से जगह दी है.

लल्लन सिंह ने कहा, ”हमारे मुल्क में अनेकता में एकता की बात कही जाती है. यह देश सबका है. ऐसी कोई टिप्पणी नहीं करनी चाहिए जिससे देश को नुक़सान हो.”

Share.

Comments are closed.