भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता एवं राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने सरकारी विमानन कंपनी एयर इंडिया को बेचने के लिए चल रही बोली प्रक्रिया में धांधली होने का आरोप लगाते हुए कहा है कि वह इसके खिलाफ अदालत जाएंगे। स्वामी ने यूनीवार्ता से बातचीत में एयरलाइन के लिए वित्तीय बोलियां जमा करने की अंतिम तारीख (15 सितंबर) से कुछ ही दिन पहले बोली प्रक्रिया को रद्द करने की मांग की।

सरकार ने भारी आर्थिक संकट से जूझ रही एयर इंडिया में 100 फीसदी हिस्सेदारी बेचने के लिए पिछले साल अभिरुचि पत्र (ईओआई) आमंत्रित किये थे। बताया जा रहा है कि टाटा समूह, स्पाइसजेट के प्रमोटर अजय सिंह के साथ दो बोलीदाताओं में से एक है हालांकि इसकी न तो कभी आधिकारिक तौर पर पुष्टि की है और न ही उसकी भागीदारी से इनकार किया गया है। सरकार ने भी एयर इंडिया के लिए योग्य बोलीदाताओं पर चुप्पी साध रखी है और सख्त गोपनीयता बनाये रखी है। स्वामी ने कहा, ”यह बोली पहले से ही अवैध है। न्यूनतम आवश्यकता दो बोलीदाताओं की है और स्पाइसजेट वास्तव में एक बोलीदाता नहीं है, लिहाजा यह एक धांधली है।

स्पाइसजेट बहुत बड़ी वित्तीय समस्या से घिरा हुआ है। वह किसी अन्य एयरलाइन को चलाने की स्थिति में नहीं है, यहां तक ? कि एयर इंडिया के साथ विलय वाली एयरलाइन भी नहीं। ऐसे में, इस बोली प्रक्रिया का कोई आधार ही नहीं है।” उन्होंने कहा, ”टाटा योग्य नहीं हैं। वे पहले से ही एयर एशिया (इंडिया) मामले में संकट में हैं और उस पर एक अदालती मामला भी चल रहा है। मैं इसे पहले ही नागरिक उड्डयन मंत्रालय को लिखित रूप में बता चुका हूं।” उन्होंने कहा कि वह इस मामले में ‘निश्चित रूप से’ अदालत जाएंगे।

Share.

Comments are closed.