नरैनी-बाँदा। कस्बे के मुख्य चौराहे पर 5 वर्ष पूर्व नगर पंचायत द्वारा यात्रियों की सुविधाओं के लिए सार्वजनिक शौचालय निर्माण कराया था। इस चौराहे पर कालिंजर करतल पन्ना अजय गढ़ अतर्रा बांदा चारों दिशाओं के मुसाफिरों को यहां घंटों वाहनों का इंतजार करना पड़ता है लेकिन यदि शौचालय की आवश्यकता पड़ जाए तो उसे काफी दूर तक जाना पड़ता है।


बांदा कालिंजर मुख्य मार्ग में चौड़ीकरण के दौरान  बने सुलभ शौचालय को पीडब्ल्यूडी के कर्मचारियों ने  ध्वस्त करा  दिया था जिस कारण मुसाफिरों के सामने शौच क्रिया हेतु भारी परेशानी उठानी पड़ रही  है। अभी तक किसी ने यह जहमत नहीं की इस शौचालय का दोबारा मरम्मत कराया जा सके या दूसरी जगह बनाया जा सके।

कस्बा के बाँदा मार्ग  चौराहा स्थित सार्वजनिक शौचालय न होने से राहगीरो को भारी जहमत उठानी पड़ती है  आवागमन करने वाले मुसाफिर भटकते नजर आते हैं लगभग 6 माह पूर्व बांदा कालिंजर मुख्य मार्ग को चौड़ीकरण के दौरान पीडब्ल्यूडी के मजदूरों द्वारा इस नगर पंचायत के सुलभ शौचालय को गिरवा दिया गया था जो आज भी  ध्वस्त ही पड़ा हुआ है  नगर पंचायत द्वारा सन 2015 में तत्कालीन चेयरमैन सुनीता

चौरसिया द्वारा करीब साढे तीन लाख रुपए की लागत से आम मुसाफिरों की सुविधा हेतु शौचालय का निर्माण बाँदा मार्ग पर करवाया था जिसमे पेशाब घर शौचालय युक्त था  । सतना ,पन्ना , छत्तरपुर, अजयगढ़, से आकर बांदा- कानपुर जाने वाले यात्रियों को पेशाब व शौचक्रिया  हेतु भारी असुविधा का सामना करना पड़ता है। राहगीर व कस्बा वासियों ने एक सुलभ शौचालय बनवाए जाने की मांग की है।

Share.

Comments are closed.