बेगमपुल स्थित एक होटल में प्रेमी-युगल ने जहर खा लिया। हालत बिगडऩे पर दोनों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। परिजन दोनों को अपने साथ ले गए। युवक के मामा ने दोनों की हालत खतरे से बाहर बताई है।

मुजफ्फरनगर जिले के आलमवाला निवासी एक युवक हरिद्वार में बीएससी की पढ़ाई कर रहा है। साथ ही एक निजी कंपनी में काम करता है। वहीं पर चमोली (उत्तराखंड) निवासी युवती भी पढ़ाई कर रही थी।

दोनों में प्यार हो गया। अलग-अलग बिरादरी के होने के कारण युवती के परिजनों ने शादी से मना कर दिया। पांच दिन पहले दोनों हरिद्वार से कहीं चले गए।

शुक्रवार को दोनों ने खुद को पति पत्नी बताते हुए बेगमपुल के सिंह होटल में शाम पांच बजे कमरा लिया। एक साथ खाना खाने के बाद दोनों सो गए।

युवक ने होटल के मैनेजर के मोबाइल से अपने मामा को काल कर बताया कि दोनों ने जहर खा लिया है। मामा ने होटल के मैनेजर को इसकी जानकारी दी। मैनेजर रूम में गया तो देखा दोनों बदहवास हालत में थे।

दोनों को जब होटल से बाहर निकाला जा रहा था, तभी मामा भी पहुंच गए। दोनों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया। जिला अस्पताल की तरफ से सदर बाजार थाना पुलिस को जानकारी दी गई।

इसी बीच युवती के परिजन भी आ गए। दोनों को जिला अस्पताल से देहरादून जौली ग्रांट स्थित मेडिकल कालेज के लिए रेफर कराकर चले गए। जब तक एसआइ सुनील कुमार मौके पर पहुंचे तब तक परिजन दोनों को ले गए थे।

फोन पर मामा ने बताया कि दोनों की हालत खतरे से बाहर है। दोनों ने परिजनों को डराने के लिए नींद की गोलियां खा ली थी। परिजन दोनों को अपने-अपने साथ ले गए।

युवक ने परिजनों को बताया कि पांच दिन में उनका जेब खर्च खत्म हो गया था। तभी दोनों ने जहर खाकर जान देने का निर्णय लिया। कोई कीटनाशक दवाई लेकर आए।

होटल के रूम में दवाइयां खाकर परिजनों को फोन पर जानकारी दी। समय पर उपचार मिलने से दोनों की जान बच गई।

एसपी सिटी विनीत भटनागर ने बताया कि एक होटल में प्रेमी युगल द्वारा जहर खाने की सूचना थाना पुलिस केा मिली थी। जब तक थाना पुलिस अस्पताल पहुंचती परिजन दोनों को लेकर जा चुके थे।

Share.

Comments are closed.