बुंदेलखंड के दौरे पर निकले भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने आज बांदा (Banda) में मीडिया से बात करते हुए केंद्र और राज्य सरकार पर किसानों की अनदेखी करने का आरोप लगाया।

उन्होंने कहा धर्म के नाम पर राजनीती करने वाले कभी जान विकास नहीं कर सकते है। हम भी राम के वंशज है हम राम राम करते थे अब ये जय श्री राम कहते है इन्होने हमारे राम को बदल दिया है। कभी राम राम करके आदर किया जाता था आज जय श्री राम कहकर हिंसा की जाती है।

राकेश टिकैत ने कहा कि पूरे देश में सबसे अधिक खराब हालात बुंदेलखंड के किसानों के हैं। यहां पर एमएसपी (MSP) पर खरीद नहीं होती है, जिससे किसानों को नुकसान होता है और बड़े व्यपारियों को फायदा। सरकार को इस तरफ ध्यान देना चाहिए जिससे यहां के किसानों को फायदा मिले।

उन्होंने भाजपा पर निशंसा साधते हुए कहा जो नदिया, जल, प्रकर्ति को बेंच रहे है आप उनसे विकास की उम्मीद कैसे कर सकते है ये नदी पेंड पौधे ये सब किसानो के सहायक है इन्हे किसान पूजते आया है आज उन्हें बेंचने वाले किसान के हितैसी कैसे बन सकते है?

राकेश टिकैत ने कहा कि बुंदेलखंड में अवारा पशुओं की बड़ी समस्या के साथ ही फसलों के लिए पानी की समस्या है, जिसपर सरकार ध्यान नहीं देती। किसान आत्महत्या के लिए मजबूर हैं।

टिकैत ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि 2022 में किसानों की फसल दोगुने रेट पर बिकेगी इसलिए हम इंतजार कर रहे हैं कि एक जनवरी से हमें अपनी फसल की दोगुनी कीमत मिलेगी। उन्होंने कहा कि जिस सरकार से किसानों को फायदा होगा वो उसे वोट देंगे और नुकसान होगा तो नही देंगे। ये उनका अपना विवेक है।

Share.

Comments are closed.