असलम खान झांसी
“राज्य विद्युत परिषद जूनियर इंजीनियर्स संगठन, उत्तर प्रदेश के आह्वान पर अवर अभियंता/प्रोन्नत अभियंताओं की ज्वलंत/न्यायोचित माँगों/समस्याओं के निराकरण पर ऊर्जा प्रबंधन द्वारा सहमतियों के अनुरूप वायदों पर खरा न उतरने के दृष्टिगत झाँसी जनपद के समस्त “अवर अभियंता/प्रोन्नत अभियंताओं 24 घंटे के सामूहिक उपवास” पर बैठे”।

राज्य विद्युत परिषद जूनियर इंजीनियर्स संगठन, उत्तर प्रदेश के केन्द्रीय नेतृत्व के निर्देश पर अवर अभियंता एवं प्रोन्नत अभियंताओ की न्यायोचित ज्वंलन्त मांगो व समस्याओं का निराकरण न किए जाने पर आज केंद्रीय नेत्रत्व के आह्वान पर पूर्व से प्रस्तावित कार्यक्रम के तृतीय चरण में माताटीला हाईडिल कॉलोनी स्तिथ मुख्य अभियंता(वितरण) कार्यालय पर झाँसी जनपद के समस्त अवर अभियंता/प्रोन्नत अभियंताओं द्वारा 24 घंटे का सामूहिक अनशन 10:00 बजे से इ॰ आर॰के त्रिवेदी, राष्ट्रीय अध्यक्ष, AIFOPDE के द्वारा अनशनकारियों माला पहनाकर अनशन शुरू कराया गया।


ध्यानाकर्षण सभा को सम्बोधित करते हुए इ॰ संजीव प्रभाकर, क्षेत्रीय अध्यक्ष झाँसी क्षेत्र ने कहा कि वर्तमान में प्रदेश के अवर अभियंता एवं प्रोन्नत अभियंता, न्यूनतम आवश्यक संसाधनो की भारी कमी, कार्य की अधिभारिता, अपर्याप्त सुरक्षा, दोषपूर्ण अनिर्धारित कार्यप्रणाली इत्यादि कारणों से विद्युत उपभोक्ताओं और सरकार की अपेक्षा के अनुरूप विद्युत आपूर्ति एवं शिकायतों के त्वरित निवारण में व्यवहारिक कठिनायियों के कारण लक्ष्यों की प्राप्ति में व्यवहारिक दिक्कतों का सामना कर रहे हैं, इस स्थिति में ऊर्जा प्रबंधन स्तर से लगातार अव्यवहारिक जाँचो के आधार पर अवर अभियंता/प्रोन्नत अभियंताओं के विरुद्ध विभिन्न उत्पीड़नात्मक कार्यवाही कर उनके मनोबल को तोड़कर उन्हें हतोत्साहित किया जा रहा है। यह भी सूचय है कि अवर अभियंता/प्रोन्नत अभियंताओं की ज्वलंत/न्यायोचित माँगों /समस्याओं के निराकरण पर ऊर्जा प्रबंधन द्वारा सहमतियों के अनुरूप वायदों पर खरा न उतरने के द्रष्टिगत संगठन के सदस्य बेहद आक्रोशित हैं और ध्यानाकर्षण कार्यक्रम के माध्यम से समस्याओं के निराकरण हेतु विवश हैं ।


इ॰ आर॰के त्रिवेदी, राष्ट्रीय अध्यक्ष, AIFOPDE ने सभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि विद्युत व्यवस्था के संचालन व राजस्व वसूली में जूनियर इंजीनियर एवं प्रोन्नत अभियंताओं की महती भूमिका है। जाड़ा गर्मी बरसात में मौसम की परवाह किए बिना यह संवर्ग दिन रात 24 घंटे विद्युत उत्पादन, पारेषण एवं निर्बाध विद्युत आपूर्ति के कार्य करता रहता है। विगत वर्ष से लगातार चल रही कोरोना महामारी के दौरान इस संवर्ग के हजारों सदस्य संक्रमित हुए और बड़ी संख्या में दिवंगत होने के बाद भी अपने कार्यों में तनिक भी शिथिलता नहीं बरती एवं निर्बाध विद्युत आपूर्ति बनाए रखा। जिसकी सराहना माननीय मुख्यमंत्री जी व माननीय ऊर्जा मंत्री जी द्वारा भी की जा चुकी है।

उसके बाबजूद भी संगठन की अतिमहत्वपूर्ण माँग ए॰सी॰पी॰ दीर्घा में आने वाले नान फंक्शनल ग्रेड वेतन 4800/- के वेतनमान को ए॰सी॰पी॰ दीर्घा से विलोपित कर प्रथम समयबद्ध वेतन मान ग्रेड-पे 5400/- व ग्रेड-पे 4600/- को 6वें वेतन की प्रभावी तिथि दिनांक 01-01-2006 को पूर्व में सहमतियाँ बनने के बाद भी लागू ना किया जाना उच्च प्रबंधन की वादाखिलाफी व तानाशाहपूर्ण रवैया को दिखाता है, जो कि अब बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।
जनपद अध्यक्ष झाँसी इ॰ सुनील कुमार ने सभा को सम्बोधित करते हुए बताया कि आज के एकदिवसीय 24 घंटे के ध्यानाकर्षण सामूहिक अनशन के बाद भी अगर उच्च प्रबंधन नही जागा तो आंदोलन के अगले चरण में दिनांक 21-09-2021 से 22-09-2021 तक दो दिवसीय क्रमिक अनशन झाँसी मंडल के अंतर्गत आने वाले तीनों जनपद क्रमश: झाँसी, जालौन व ललितपुर के सभी अवर अभियंता व प्रोन्नत अभियंताओं द्वारा मुख्य अभियंता(वितरण) झाँसी के कार्यालय पर किया जाएगा।


ध्यानाकर्षण सामूहिक उपवास विरोध सभा में सहायक अभियंता इ॰ मुकेश चौरसिया, इ॰ मनोज सोनी, इ॰ दिनेश मौर्या, इ॰ अनिल सागर, इ. अजीत सिंह, इ॰ महेश चंद्र, अवर अभियंता इ॰ जगजीत सिंह, इ॰ अमित सक्सैना, इ॰ मोहित कुमार, इं बलराम, इं एम॰एम॰सिद्दीकी, इं आर॰एन॰ शाक्य, इं विक्रम, इं पुष्पेंद्र, इं हरिओम कुशवाह, इं सोहेल सिद्धकी, इं अखिलेश त्रिपाठी, इ. राजीव श्रीवास, इ.रितिक गुप्ता, इ.शैलेन्द्र कुमार, इ.राम कुमार, इ.सुमित साहू, इ॰ पवन आर्या, इ॰ उमेश राजन, इ॰ सुरेंद्र सिंह, इ॰ परमेश्वर गोराई, इ॰ चन्द्रभान, इ॰ सुमित साहू, इ॰ पूजा, इ॰ सुमन, इ॰ दीपा, इ॰ नेहा, इ॰ शालिनी, इ॰ रोहित, इ॰ अशोक कुमार, इ॰ कृष्णकांत, इ॰ सुरेंद्र सिंह, इ॰दीपक, इ॰ रामकुमार, इ॰ चंद्रप्रकाश, इ॰ सदागुरु शरण आदि समस्त सदस्य उपस्थित रहे। ध्यानाकर्षण सामूहिक उपवास विरोध सभा की अध्यक्षता जनपद अध्यक्ष इ॰ सुनील कुमार ने की व संचालन जनपद सचिव इ॰ रोहित कुशवाहा ने किया।

Share.

Comments are closed.