प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलीगढ़ आने से पहले रविवार को किसानों ने जमकर प्रदर्शन किया। लंबे समय से अलीगढ़ की साथा चीनी मिल बंद होने से नाराज किसान बड़ी संख्या में एकत्रित होकर नेशनल हाईवे पर पहुंच गए और उन्होंने अलीगढ़ मुरादाबाद हाईवे को जाम कर दिया।

घटना की जानकारी मिलने पर भारी संख्या में पुलिस पहुंच गई और किसानों को छेरत चौकी के पास रोक दिया। जिसके बाद किसानों और पुलिस के बीच जमकर संघर्ष हुआ और काफी देर तक हंगामा चलता रहा।

लेकिन पुलिस के लगातार समझाने के बाद भी किसान नहीं माने और सड़क पर अपने टैक्टर ट्रॉली खड़े करके धरने पर बैठ गए। जिससे आवागमन भी घंटो तक बाधित रहा।

गन्ना मंत्री से मिलने के लिए अड़े रहे किसान

सूबे के गन्ना मंत्री व जिले के प्रभारी मंत्री सुरेश राणा रविवार को पीएम के कार्यक्रम का जायजा लेने के लिए अलीगढ़ में ही मौजूद रहे। किसानों की मांग थी कि उन्हें गन्ना मंत्री से मिलना है। भारतीय किसान यूनियन ने जन प्रतिनिधियों के साथ बैठक भी बुलाई थी, लेकिन गन्ना मंत्री से उनकी मुलाकात नहीं हो सकी।

इसके बाद किसान सर्किट हाउस में गन्ना मंत्री सुरेश राणा का घेराव करने के लिए रवाना होने लगे, लेकिन पुलिस ने उन्हें रोक दिया। जिसके बाद किसानों और पुलिस के बीच दुबारा जमकर संघर्ष हुआ।

जिसके बाद पुलिस व प्रशासन के आलाधिकारी भी मौके पर पहुंचे और किसानों को समझाने का प्रयास किया। लेकिन किसानों ने अधिकारियों से बात करने से इनकार कर दिया और सड़क जाम करके धरने पर ही बैठे रहे।

मामले की जानकारी होने के बाद पूर्व मंत्री व एमएलसी ठा. जयवीर सिंह मौके पर पहुंचे और किसानों के साथ बातचीत शुरू की। उन्होंने किसानों को समझाया कि सरकार उनकी समस्याओं को दूर करने के लिए गंभीर है और नीतियां तैयार की जा रही हैं। जल्दी ही साथा चीनी मिल को शुरू करने के लिए भी कार्रवाई शुरू होगी। 

Share.

Comments are closed.