जिलाधिकारी संजीव सिंह की अध्यक्षता में शुक्रवार को कर-करेत्तर की बैठक कलेक्ट्रेट सभागार में हुई। इसमें राजस्व वसूली की समीक्षा की गई। सूचना के बावजूद सकलडीहा तहसीलदार वंदना मिश्रा व वाणिज्य कर विभाग के डिप्टी कमिश्नर अनुपस्थित रहे। दोनों विभागों की राजस्व वसूली भी संतोषजनक नहीं थी।

उपायुक्त ने अपने स्थान पर दफ्तर के किसी कर्मचारी को भेज दिया था। डीएम ने कर्मी को मीटिंग हाल से बाहर कर दिया। साथ ही दोनों अफसरों को नोटिस जारी करने के निर्देश दिए।

उन्होंने कहा कि बकाए राजस्व की वसूली की स्थिति ठीक नहीं है। इससे साफ जाहिर है कि अधिकारी सही ढंग से काम नहीं कर रहे हैं। बकाएदारों से हर हाल में राजस्व की वसूली की जानी चाहिए।

इसमें किसी तरह की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। जले ट्रांसफार्मरों को बदलने में लेटलतीफी की शिकायत पर एक्सईएन विद्युत को फटकार लगाई। बोले, सीएम का स्पष्ट निर्देश है कि 24 घंटे के अंदर जले ट्रांसफार्मरों को बदल दिया जाएगा। इसमें शिथिलता भारी पड़ सकती है।

उन्होंने कहा कि पांच साल से अधिक पुराने वादों का निस्तारण प्राथमिकता के आधार पर किया जाना चाहिए। आवंटित जमीन का पट्टेधारक को दखलनामा जरूर दें। आइजीआरएस पोर्टल पर आने वाली शिकायतों के निस्तारण में उदासीनता साफ प्रदर्शित हो रही है। शिकायतों का निस्तारण नहीं हो पा रहा।

वहीं विलंब से निस्तारण होने से शिकायतें डिफाल्टर की श्रेणी में शामिल हो रहीं। विभागाध्यक्ष प्रतिदिन आइजीआरएस पोर्टल की समीक्षा करें। शिकायतों का समय से निस्तारण किया जाना चाहिए। एडीएम अतुल कुमार समेत राजस्व व अन्य विभागों के अधिकारी मौजूद रहे।

Share.

Comments are closed.