प्रदेश में चुनावी राजनीति अब जोर पकड़ने लगी है,जातियों के सहारे चुनावी वैतरणी पार करने का सपना देखने वाले मूर्तियों और स्मारकों का सहारा ले रहे हैं।

बिहार के मंत्री मुकेश साहनी द्वारा पूर्व सांसद फूलन देवी की मूर्ति की स्थापना का असफल प्रयास के बाद रायबरेली में इसके प्रयास शुरू हो चुके हैं।

समाजवादी पार्टी अपनी मूर्ति पॉलिटिक्स को आगे बढ़ाते हुए रायबरेली में पूर्व सांसद फूलन देवी की मूर्ति लगाने जा रही है। 20 सितंबर को पार्टी के बड़े नेताओं की उपस्थिति में मूर्ति का अनावरण होना है।

हालांकि प्रशासन ने भी बिना अनुमति किसी मूर्ति की स्थापना नहीं करने का आदेश दिया है।

वहीं सपा भी पीछे नहीं होने को राजी है। गौरतलब है कि जिले के ऊंचाहार में निषाद बाहुल्य गांव खंदारीपुर हैं। यहां 20 सितंबर को पूर्व सांसद स्व फूलन देवी की मूर्ति स्थापना की तैयारी जोर शोर से चल रही है।

मूर्ति अनावरण के समय समाजवादी पार्टी के विधायक मनोज़ पांडे व सपा पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ के अध्यक्ष राजपाल कश्यप भी मौजूद रहेंगे।

उल्लेखनीय है कि ऊंचाहार विधानसभा क्षेत्र में निषाद वोटों की निर्णायक भूमिका रहती है और इस मूर्ति पॉलिटिक्स के सहारे निषादों को भी साधने की तैयारी है।

जब इस तैयारी की भनक पुलिस को लगी तो उसने बिना अनुमति किसी भी मूर्ति को न लगाने की चेतावनी दे दी।वहीं गांव के प्रधान अनिल कुमार का कहना है कि कुछ लोग मूर्ति लगवाना चाह रहे हैं,इसमें ग्राम पंचायत की कोई भूमिका नहीं है।

दूसरी तरफ थानाध्यक्ष विनोद कुमार सिंह का कहना है कि इसपर नजर रखी जा रही है,सभी को बता दिया गया है कि बिना प्रशासन की अनुमति के कोई भी मूर्ति नहीं लगाने दी जाएगी।

Share.

Comments are closed.