शिवपुर ग्राम पंचायत में ग्रामीण मरीजों को खाट पर ले जाने के लिए मजबूर हैं। गांव को मुख्य मार्ग से जोड़ने वाली सड़क कीचड़ से भरा है।

यहां जब भी कोई बीमार पड़ता है, तो उसे खटिया पर लेटाकर उसे कंधे पर ले जाया जाता है। ग्रामीण पक्की सड़क बनवाने के लिए सांसद से लेकर विधायक और कलेक्टर तक गुहार लगा चुके हैं, लेकिन सुनवाई नहीं हुई। शुक्रवार को भी ऐसा ही मामला सामने आया।

हटा ब्लाॅक की ग्राम पंचायत शिवपुर के पुराना खेड़ा गांव के लोगों को आने-जाने में समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। मुख्य मार्ग से इस गांव को जोड़ने वाली डेढ़ किलोमीटर की सड़क इन दिनों दलदल बनी हुई है।

शुक्रवार दोपहर कुछ लोग एक चारपाई पर एक बुजुर्ग को इस दलदल से लेकर आते हुए देखे गए। जब उनसे पूछा तो उन्होंने बताया कि बुजुर्ग बीमार हैं। उन्हें इलाज के लिए अस्पताल ले जाना है।

इस डेढ़ किलोमीटर लंबे मार्ग में कीचड़ भरा हुआ है, जिस कारण से गांव तक कोई भी वाहन नहीं पहुंच पाता है। वह उसे खाट पर रखकर मुख्य मार्ग पर ले जा रहे हैं, जहां से उन्हें अस्पताल ले जाएंगे।

कई सालों से भुगत रहे परेशानी

ग्रामीण हरिराम कुशवाहा और अन्य ग्रामीणों ने बताया कि यह समस्या आज की नहीं है। बीते कई सालों से वह इस संकट से जूझ रहे हैं।

हर साल बारिश के समय उन्हें इसी तरह परेशान होना पड़ता है। बच्चे हो या बुजुर्ग, महिलाएं हो या बीमार हर किसी को यहां से निकलने में बहुत परेशानी होती है।

उन्होंने बताया कि वह सांसद, विधायक से लेकर कलेक्टर और अन्य अधिकारियों तक अपने गांव की सड़क को पक्का बनाने के लिए गुहार लगा चुके हैं, लेकिन सुनवाई नहीं हुई है।

बारिश के पहले वन विभाग ने इस मार्ग पर कुछ ट्राली मिट्टी जरूर डाली थी, लेकिन उससे कोई फायदा नहीं हुआ। आज भी पूरी सड़क दलदल की तरह बनी है।

Share.

Comments are closed.