करनाल डीएम का वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है जिसको देख और सुनकर साफ अंदाजा लगाया जा सकता है कि खट्टर सरकार खुद कथित तौर पर किसानो का सर फोड़ने का आदेश दिया था। इससे ये भी साफ हो गया है कि किसानों कि सिर फोड़ने का निर्णय एसडीएम आयुष सिन्हा का अपना फैसला नहीं था।

दरअसल गुरूवार को सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें करनाल के डीएम निशांत यादव यह कहते दिख रहे हैं कि अधिकारियों को ऊपर से आदेश मिलने पर इस तरह के निर्देश देने पड़ते हैं।

कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने इस वीडियो को ट्वीट करते हुए हरियाणा की खट्टर सरकार पर जोरदार हमला बोला है। सुरजेवाला ने डीएम के बयान वाला वीडियो ट्वीट करते हुए लिखा, “करनाल लाठीचार्ज का सच सामने आ ही गया! किसानों के सर फोड़ने का आदेश करनाल के एसडीएम को मुख्य मंत्री ने दिया- इसीलिए अधिकारी पर कार्यवाही नही हो रही।”

क्या था मामला ?

करनाल में 28 अगस्त को बीजेपी की बैठक थी और उसी दिन किसान वहां धरने पर थे। इस वजह से पूरे करनाल और आसपास के इलाके को पुलिस छावनी बना दिया गया था।

इसी बीच जब किसान घरौंडा में बसताड़ा टोल प्लाजा पर शांतिपूर्ण तरीके से धरना दे रहे थे तो अचानक से पुलिस बल ने उन पर लाठियां बरसाते हुए हमला कर दिया। इस जानलेवा हमले में बुरी तरह घायल हुए किसान सुशील काजला की अगले दिन मौत हो गई।

उसी दिन तत्कालीन एसडीएम आयुष सिन्हा का एक वीडियो वायरल हुआ, जिसमें वो पुलिस को किसानों के सिर फोड़ने का आदेश देते हुए साफ नजर आ रहे हैं।

Share.

Comments are closed.