श्रीनगर : एक ब्लॉग से जुड़े चार पत्रकारों से पुलिस ने थाने बुलाकर पूछताछ की है. जम्मू और कश्मीर पुलिस ने गुरुवार रात कहा कि जिन चार पत्रकारों से पूछताछ की गई, उनके ब्लॉग kashmirfight@wordpress.com के मास्टरमाइंड के साथ संबंध थे. इस ब्लॉग के बारे में कथित तौर पर कहा जा रहा है कि यह कश्मीर में राजनीतिक कार्यकर्ताओं, कार्यकर्ताओं और पत्रकारों के खिलाफ बदनामी का अभियान चला रहा था.

पुलिस प्रवक्ता ने एक बयान में कहा कि बुधवार को हिलाल मीर, शाह अब्बास, अजहर कादरी और शौकत मित्रा के आवास पर छापेमारी की थी और बाद में उन्हें पूछताछ के लिए पुलिस थाने ले गयी. उसी दिन शाम को उन्हें छोड़ दिया गया, लेकिन तकनीकी मूल्यांकन के लिए उनके लैपटॉप और मोबाइल फोन जब्त कर लिये गये. पुलिस बेवजह पत्रकारों को परेशान नहीं कर रही है.

कश्मीर के पुलिस महानिरीक्षक विजय कुमार ने कहा कि एकत्र किये गये साक्ष्य के आधार पर, सक्षम अदालत से उचित तलाशी वारंट प्राप्त करने के बाद चार अलग-अलग स्थानों पर तलाशी ली गयी. पुलिस कानूनी प्रक्रिया का पूरी तरह पालन कर रही है.

तलाशी के दौरान कुछ मोबाइल फोन, लैपटॉप और अन्य गैजेट जब्त किये गये. प्रवक्ता ने आगे कहा कि जांच के लिए पत्रकारों को पूछताछ के लिए बुलाया गया था और शाम को जाने की अनुमति दी गई थी और उन्हें कल फिर से पेश होने का निर्देश दिया गया है.

प्रवक्ता ने कहा कि जांच जारी है और इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स की भी जांच चल रही है. अब तक, पाकिस्तान, तुर्की, सऊदी के विभिन्न नंबर पाये गये हैं. इसके अलावा वे विभिन्न वर्चुअल नंबरों के संपर्क में भी पाए गए हैं. प्रवक्ता ने पुलिस महानिरीक्षक विजय कुमार का हवाला देते हुए मीडिया बिरादरी को सलाह दी कि वे झूठी खबरें या कथा न फैलाएं जो मामले की जांच में अनावश्यक हस्तक्षेप हो.

प्रवक्ता ने कहा कि इस मामले में जब भी सबूत जुटाए जायेंगे, शामिल लोगों को गिरफ्तार किया जायेगा. बता दें कि पुलिस ने बुधवार को कश्मीर में प्रेस की स्वतंत्रता पर चिंता जताते हुए शहर के विभिन्न हिस्सों में चार पत्रकारों के घरों पर छापेमारी की. रिपोर्टर्स सैन्स फ्रंटियर्स ने एक ट्वीट में पत्रकारों पर छापे की निंदा की. ट्विटर पर लिखा गया कि @RSF_inter आज सुबह 4 पत्रकारों के आवास पर पुलिस की छापेमारी की कड़ी निंदा करता है.

Share.

Comments are closed.