हरियाणा के करनाल में लघु सचिवालय पर किसानों का धरना तीसरे दिन भी जारी है। धरनास्थल पर 1000 से ज्यादा किसान डटे हुए हैं और लोगों के आने का सिलसिला जारी है।

प्रशासन ने नजर रखने के लिए धरनास्थल के चारों ओर CCTV कैमरे लगाए हैं, ताकि अंदर बैठकर ही सभी गतिविधियों पर नजर रखी जा सके। वहीं इंटरनेट और SMS सेवा गुरुवार रात 12 बजे तक बंद कर दी गई है।

आम लोगों के कामों के लिए गुरुवार को सचिवालय के सभी ऑफिस खोले गए हैं। एंट्री के लिए वकीलों के चैंबर्स की तरफ वाला रास्ता खुला है। वहीं किसानों ने अपने धरने को सड़क की एक लेन में शिफ्ट कर लिया है।

सड़क की दूसरी लेन आने-जाने के लिए रास्ता खोल दी गई है। उधर जिला प्रशासन ने किसानों की सहमति से जिला सचिवालय का मुख्य गेट भी आम जनता के लिए खुलवा दिया है। इससे पहले बुधवार को किसान नेताओं और प्रशासनिक अफसरों के बीच सहमति न बन पाने के चलते सवा तीन घंटे चली वार्ता विफल हो गई थी।

टिकैत रात में ही निकल गए थे नोएडा, चढूनी के हाथ कमान

किसान नेता राकेश टिकैत बीती रात नोएडा के लिए निकल गए थे। अब गुरनाम सिंह चढूनी की अगुवाई में धरना जारी है। चढूनी ने कहा है कि गेहूं की MSP में सिर्फ 40 रुपए की बढ़ोतरी बहुत ही शर्मनाक है।

सरकार ने सिर्फ 2 फीसदी बढ़ोतरी की है, जबकि महंगाई दर 7-8% बढ़ रही है। वहीं किसान नेता बलदेव सिरसा ने कहा कि जब तक सरकार किसानों से बातचीत नहीं करती तब तक ऐसी बढ़ोतरी का कोई मतलब नहीं है। सरकार को चाहिए कि वो MSP में बढ़ोतरी से पहले किसानों से चर्चा करे, तभी इसका फायदा होगा।

Share.

Comments are closed.