थाना फेस टू में  अधिवक्ता से बदसलूकी करने के आरोप में मंगलवार को सैकड़ों की संख्या में वकील सेक्टर 108 स्थित पुलिस आयुक्त कार्यालय पहुंचे।

वकीलों की संख्या को देखते हुए पहले ही कार्यालय के बाहर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया था। इस दौरान वकीलों ने पुलिस आयुक्त कार्यालय का घेराव करते हुए पुलिस के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

साथ ही अधिवक्ता से बदसलूकी करने वाले दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराने की बात पर अड़े रहे। 

मंगलवार को पुलिस आयुक्त कार्यालय समेत पूरे इलाके को छावनी में तब्दील कर दिया गया था। कार्यालय के चारों ओर  पुलिस, पीएसी और रैपिड एक्शन फोर्स तैनात किया गया था। एहतियात बरतते हुए तमाम मार्ग बंद कर दिए गए थे।

कुछ रूट डायवर्ट किए गए थे। कई मौकों पर पुलिस और वकीलों के बीच धक्का-मुक्की भी हुई।

वकीलों का कहना है कि जब तक साथी वकील महेश नागर के साथ उत्पीडऩ, अभद्रता और ज्यादती करने वाले पुलिसकर्मियों के खिलाफ मामला दर्ज नहीं होगा, तब तक वे प्रदर्शन करते रहेंगे।

गौतमबुद्ध नगर बार एसोसिएशन के अध्यक्ष मनोज भाटी एडवोकेट ने बताया कि थाना फेस टू पुलिस ने एक अधिवक्ता महेश नागर के साथ अभद्रता की।

उन्हें अवैध हिरासत में रखा गया। इसको लेकर सोमवार, 6 सितम्बर को पश्चिमी यूपी के 22 जिलों के वकील हड़ताल पर रहे। जिला न्यायालय में बैठक का आयोजन कर अधिवक्ता के साथ ज्यादती पर पुलिस कार्रवाई पर आपत्ति जताई गई थी।

वकीलों ने चेतावनी देते हुए कहा है कि जब तक आरोपी पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं होगी, उनका विरोध जारी रहेगा।

वकीलों का कहना है कि नोएडा जोन एडीसीपी रणविजय सिंह ने जल्द ही इस मामले में कार्रवाई का आश्वासन दिया है।

अगर फिर भी कार्रवाई नहीं होती है तो वह दोबारा प्रदर्शन करेंगे। 

Share.

Comments are closed.