हरिद्वार थाना रानीपुर क्षेत्र के अंतर्गत औद्योगिक क्षेत्र में गंगा ऑनलाइन सलूशन मे चल रही आईटीआई की ऑनलाइन परीक्षा जिसमें छात्रों ने दावा किया कि परीक्षा करवा रहे टीचर्स कर रहे छात्र छात्राओं के साथ मन मनी
ITI. कन्फ्यूज़ न हों, ये IIT नहीं है. ये ITI ही है. औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान.

देशभर में फैले इन्हीं इंस्टीट्यूट को आधार बनाकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्किल इंडिया वाला प्रोजेक्ट शुरू किया था. लेकिन कोरोना महामारी और प्रशासन की लापरवाही की वजह से ITI के छात्र परीक्षा, नतीजे और भविष्य की चिंता में डूबे हुए हैं.

ITI स्टूडेंस का दावा है कि रिजल्ट और परीक्षा में देरी की वजह है वो कई विभागों में अप्रेंटिसशिप नहीं कर पाएंगे, क्योंकि वहां पर 22-24 साल का क्राइटेरिया होता है.

रिपोर्टर:-सुधीर चावरिया मंडल प्रभारी उत्तराखंड

Share.

Comments are closed.