उत्तर प्रदेश में डेंगू का प्रकोप लगातार बढ़ता जा रहा है। सूबे के कई जिलों के अस्पतालों में मरीजों के बेड फुल बताए जा रहे हैं। वाराणसी, प्रयागराज, सीतापुर और फिरोजाबाद में दर्जनों की मौत हो चुकी है जबकि सैकड़ों का इलाज अस्पतालों में चल रहा है।

हालाँकि मुख्यमंत्री ने खुद इस पर विशेष ध्यान दे रहे है लेकिन स्थित साफ है हमारे संसाधन सीमित है और स्टाफ की कमी है इसको नकारा नहीं जा सकता है। इस लिए इन कमियों को पूरा किया जाए कोरोना के बाद भी शबक नहीं लिया तो कब लेंगे ?

अकेले फिरोजाबाद में पिछले 15 दिनों में 52 लोगों की मौत हो चुकी है। अस्पतालों में पीड़ित मरीजों के परिजनों को रोते बिलखते देखा जा रहा है। रविवार को भी ऐसा ही एक नजारा देखने को मिला।

फिरोजाबाद में अपने बच्चे का इलाज कराने पहुंची बेबस मां, डॉक्टर को देखते ही उसके पैरों में गिर गई और बच्चे की सलामती के लिए गिड़गिड़ाने लगी। प्राप्त जानकारी के अनुसार अपने बच्चे को एडमिट कराने के लिए परिजनों को करीब डेढ़ घंटे तक इंतजार करना पड़ा था।

फिरोजाबाद में मेडिकल कॉलेज की प्रिंसिपल संगीता अनेजा बताती हैं कि इस समय अस्पताल में 540 बच्चों का इलाज चल रहा है, मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है। परिजन एक ही बेड पर दो दो मरीजों को रखे जाने के भी पक्ष में हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि पिछले दिनों सीएम योगी आदित्यनाथ ने इसी अस्पताल का दौरा भी किया था।

Share.

Comments are closed.