कोलकाता, 06 सितंबर ।
पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में नंदीग्राम से भाजपा नेता शुभेंदु अधिकारी से पराजित होने के बाद पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भवानीपुर विधानसभा सीट से उपचुनाव लडे़ंगी। तृणमूल नेताओं ने ममता बनर्जी के समर्थन में चुनाव प्रचार कर दिया है। भवानीपुर की दिवारों पर ‘खेला होबे’ के नारे लिखे जा रहे हैं, तो सोमवार को ममता बनर्जी की जीत की फरियाद करते हुए तृणमूल समर्थकों ने बेहला में यज्ञ कर विजय का आशीर्वाद मांगा।


30 सितंबर को भवानीपुर में होने वाले उपचुनाव में ममता बनर्जी मुख्य उम्मीदवार हैं। आज कौशिकी अमावस्या के दिन तृणमूल समर्थकों ने पुराने शिव मंदिर के पास भव्य यज्ञ का आयोजन किया। बनर्जी की जीत के लिए प्रार्थना करते हुए तृणमूल समर्थकों ने कहा, “मैं मां तारा से प्रार्थना करता हूं कि ममता बनर्जी आगामी भवानीपुर केंद्र में भारी अंतर से जीत हासिल करें।”

बता दें कि तृणमूल कांग्रेस ने रविवार को उन्हें आधिकारिक रूप से अपना उम्मीदवार घोषित कर दिया है। चुनाव आयोग ने शनिवार को उपचुनाव की घोषणा की थी जिसके साथ दक्षिण कोलकाता की इस सीट पर तृणमूल कांग्रेस का चुनाव प्रचार शुरू हो गया है। ममता बनर्जी 2021 के विधानसभा चुनाव में नंदीग्राम सीट पर भाजपा के शुभेंदु अधिकारी से हार गयी थीं। विधानसभा चुनाव के मद्देनजर आज चुनाव आयोग ने अधिसूचना भी जारी कर दी है।


गौर हो कि ममता बनर्जी को मुख्यमंत्री पद पर बने रहने के लिए इस उपचुनाव में जीत हासिल करनी होगी। बनर्जी को पांच नवंबर तक राज्य विधानसभा की सदस्यता प्राप्त करनी होगी। भवानीपुर के अलावा 30 सितंबर को शमशेरगंज और जंगीपुर विधानसभा सीट पर भी वोटिंग होगी। शमशेरगंज सीट से अमिरुल इस्लाम और जंगीपुर विधानसभा सीट से जाकिर हुसैन को कैंडिडेट्स बनाया गया है।

वरिष्ठ पार्टी नेता शोभनदेव चट्टोपाध्याय ने भवानीपुर से तृणमूल कांग्रेस विधायक के रूप में इस्तीफा दिया है ताकि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के उपचुनाव लड़कर राज्य विधानसभा का सदस्य बनने का रास्ता साफ हो। शोभनदेव चट्टोपाध्याय ने इस सीट पर बीजेपी के उम्मीदवार और अभिनेता रुद्रनील घोष को करीब 28,000 वोटों से हराया था। ममता बनर्जी विधानसभा में भवानीपुर सीट से जीतकर पहुंचती रही हैं। बनर्जी 2011 से इस सीट पर दो बार विधायक बन चुकी हैं।

Share.

Comments are closed.