लखनऊ विश्वविद्यालय के नवीन परिसर में छात्रों के हंगामे के बाद सोमवार को प्रशासन ने सख्त रुख अपनाया है। एडमिशनल प्राक्टर ने छात्रों को निर्देश जारी किए हैं। 

जिसमें कहा है कि यदि किसी छात्र ने इंटरनेट मीडिया या फेसबुक पर विश्वविद्यालय या संकाय की छवि खराब करने की पोस्ट डाली तो उसके खिलाफ अनुशासनात्क कार्यवाही की जाएगी। इसके अलावा किसी छात्र के चरित्र हनने की पोस्ट डालने पर भी सख्त कार्यवाही होगी।

दो दिन पहले विश्वविद्यालय के जानकीपुरम स्थित नवीन परिसर में होमी जहांगीर भाभा विधि छात्रावास के छात्रों ने खाने की खराब गुणवत्ता, पीने के पानी सहित कई समस्याओं के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया था।

करीब छह घंटे तक चले प्रदर्शन की सूचना इंटरनेट मीडिया पर जारी कर दी गई। काफी देर हंगामे के बाद दिए गए आश्वासन के बाद छात्र शांत हुए। अब विश्वविद्यालय प्रशासन ने इंटरनेट मीडिया पर संकाय की छवि खराब करने की पोस्ट डालने सख्त कार्यवाही की बात कही है।

एडिशनल प्राक्टर प्रो. मोहम्मद अहमद की ओर से जारी नोटिस के मुताबिक इंटरनेट मीडिया या फेसबुक पर कोई ऐसी पोस्ट डाली जाती है, जिससे विश्वविद्यालय या जिस संकाय का वह छात्र है उसकी छवि खराब होती है तो पोस्ट डालने वाले छात्र के विरुद्ध कड़ी अनुशासनात्मक कार्यवाही की जाएगी।

इसके अतिरिक्त यदि कोई छात्र बिना एडिशनल प्रॉक्टर की अनुमति के कोई भी ऐसी पोस्ट डालता है जो किसी छात्र के चरित्र को हनन करने वाली प्रकृति की है, तो छात्र की शिकायत पर पोस्ट डालने वाले के खिलाफ विरुद्ध कड़ी अनुशासनात्मक कार्यवाही की जाएगी।

Share.

Comments are closed.