तीसरी लहर की कितनी तैयारी की गई है उसकी बानगी मिलना शुरू हो गई है। कहा जा रहा था की सभी अस्पतालों में बेड व अन्य सारी जरूरतों को बढ़ाया गया था। मगर अभी बीमारों की संख्या बढ़ने से अस्पतालों में बेड कम पढ़ गए हैं। मरीजों की बढ़ोतरी हो गई है।

एकदम से वायरल फीवर के मरीज बहुत अधिक बढने से अस्पतालों में बेड की कमी हो गई है ।।इस समय वायरल फीवर खासतौर से छोटे बच्चों को अपना शिकार बना रहा है। सबसे चौकाने वाली बात यह है कि बहुत छोटे छोटे बच्चे वायरल फीवर की गिरफ्त में आ रहे है ।

अस्पतालों में हालात यह है कि सभी अस्पताल में बेड फूल है। हैलेट में कुछ दिन पहले दो मरीज एक एक बेड में लिटाये गए थे। अकेले चिल्ड्रन विभाग में 24 बेड और बढ़ाए गए है । पर अब भी हॉस्पिटल मरीजों से फुल है ।

Share.

Comments are closed.