चांदी कारोबारी से 43 लाख रुपये लूटने के आरोपित वाणिज्यकर विभाग के निलंबित असिस्टेंट कमिश्नर और वाणिज्यकर अधिकारी अभी तक न तो कोर्ट में हाजिर हुए और न ही पुलिस के हाथ आए।

दोनों के घर पर कुर्की पूर्व का नोटिस चस्पा किया जा चुका है। अब पुलिस ने न्यायालय के आदेश का पालन न करने पर एक और मुकदमा दर्ज कर लिया है। अब जल्द ही कुर्की के आदेश के लिए कोर्ट में प्रार्थना पत्र दिया जाएगा।

मथुरा के गोविंद नगर में महाविद्या कालोनी निवासी चांदी कारोबारी प्रदीप अग्रवाल को वाणिज्यकर विभाग के अधिकारियों ने 30 अप्रैल की रात को लखनऊ एक्सप्रेस वे पर चेकिंग के लिए रोका था।

आरोप है कि यहां से जयपुर हाउस स्थित कार्यालय लाया गया और उनसे 43 लाख रुपये लूट लिए।इस मामले में लोहामंडी थाने में मुकदमा दर्ज हुआ था। इसमें नामजद कांस्टेबल संजीव कुमार और चालक दिनेश को पुलिस गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है।

मामले में नामजद वाणिज्यकर विभाग के निलंबित असिस्टेंट कमिश्नर अजय कुमार और वाणिज्यकर अधिकारी शैलेंद्र कुमार अभी फरार हैं। दोनों की गिरफ्तारी के पुलिस ने बहुत प्रयास किए, लेकिन वे हाथ नहीं आए हैं।

अजय कुमार लखनऊ के इंदिरा नगर के मूल निवासी हैं और आगरा में फिनिक्स पुष्पविला गार्डेनिया अपार्टमेंट में रहते थे। मूलरूप से चंदौली के रहने वाले शैलेंद्र कुमार अपर्णा प्रेम अपार्टमेंट में रहते थे।

कोर्ट के आदेश पर पुलिस दोनों के घरों पर कुर्की पूर्व के नोटिस चस्पा कर चुकी है। इसके बाद भी आरोपित फरार चल रहे हैं। आइजी नवीन अरोरा दोनों अधिकारियों पर 50-50 हजार रुपये का इनाम घोषित कर चुके हैं।

अब लोहामंडी थाने में शुक्रवार देर रात सब इंस्पेक्टर रामप्रताप सिंह की ओर से अजय कुमार और शैलेंद्र कुमार के खिलाफ न्यायालय के आदेश का उल्लंघन करने की धारा में मुकदमा दर्ज करा दिया है।

मुकदमे की विवेचना सीओ सदर कर रहे हैं। सीओ सदर राजीव कुमार का कहना है कि अब कोर्ट से दोनों आरोपितों की कुर्की के आदेश लेने का प्रयास किया जा रहा है। आदेश मिलते ही कुर्की की कार्रवाई की जाएगी।

Share.

Comments are closed.