कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने केंद्र सरकार व भाजपा पर देश की संपत्तियों को बेचने का आरोप लगाया है। गुजरात प्रदेश कांग्रेस कार्यालय राजीव गांधी भवन में वीरवार को पत्रकार वार्ता के दौरान पवन खेड़ा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नारा सब कुछ बेच दूंगा हो गया है।

देश की जनता से अच्छे दिन का वादा करके 60 महीने के लिए सत्ता मांगी थी, लेकिन 60 साल में बनाई गई देश की संपत्तियों को एक-एक करके अपने उद्योगपति मित्रों को बेच रहे हैं। खेड़ा का आरोप है कि देश की 60 लाख करोड़ रुपये मूल्य की संपत्तियों को छह लाख करोड़ में किराए पर 30-35 साल के लीज या मालिकाना हक के रूप में सौंपी जा रही है।

खेड़ा ने बताया कि डेढ़ लाख करोड़ रुपये मूल्य की सड़कें, डेढ़ लाख करोड़ की रेल संपत्तियां, बिजली, टेलीकाम, फूड भंडारण, एयरपोर्ट, बंदरगाह, स्टेडियम आदि संपत्तियों को नीलाम किया जा रहा है।

कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि कांग्रेस में यूपीए के कार्यकाल में विनिवेश की एक नीति बनाई गई थी, जिसके तहत सामरिक व रणनीतिक क्षेत्र में विनिवेश को स्वीकार नहीं किया गया था, लेकिन आज देश के हितों को ताक पर रखकर कुछ लोगों के निजी लाभ के लिए काम किया जा रहा है।

घाटे में चल रही सरकारी संपत्तियों में ही विनिवेश करने की नीति बनाई गई थी, लेकिन आज लाभ में चल रही सार्वजनिक इकाइयों को भी बेचा जा रहा है। देश की सरकारी संपत्तियों को केवल दो कंपनियां को गिरवी रखा जा रहा है।

इससे देश को आर्थिक नुकसान हो रहा है। साथ ही, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति व अन्य पिछड़ा वर्ग के युवक-युवतियों को इन सरकारी कंपनियों में मिलने वाले आरक्षण का भी नुकसान होने वाला है।

कांग्रेस का आरोप है कि यह सरकार पूरी तरह विफल हो चुकी है। इनसे ना सरकार चल रही है, ना प्रशासन और ना ही सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियां चलाने में सक्षम ये सक्षम है।

Share.

Comments are closed.