उत्तर प्रदेश की राजधानी में डेंगू लगातार पैर पसारता जा रहा है स्वास्थ्य विभाग की जांच में चार नए मरीजों में डेंंगू की पुष्टि हुूई है। इनके नमूने बलरामपुर अस्पताल में लिए गए थे। रैपिड जांच में डेंगू की पुष्टि के बाद एलाइजा जांच के लिए इसे भेजा गया था।

गुरुवार को इन चारों मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। फैजुल्लागंज में डेंगू के लक्षणों वाले 30 से अधिक नए मरीज मिले हैं। वहीं, विभिन्न अस्पतालों की ओपीडी में 250 से अधिक बुखार पीडि़त सामने आए हैं। इनमें ज्यादातर को भर्ती करने की सलाह दी गई।

डाक्टरों के अनुसार टायफाइड और वायरल बुखार इन दिनों काफी ज्यादा हो रहा है। फैजुल्लागंज में 30 से ज्यादा लोग बुखार की चपेट में हैं। इनमें 15 बच्चे भी शामिल हैं।

बलरामपुर अस्पताल में अमीशा, प्रियांशी, संतोष कुमार और अनुष्का में डेंगू की पुष्टि हुई है। वहीं फैज्जुलागंज स्थित श्याम विहार कॉलोनी में आदित्य मौर्या, अनुराग, करन, अंशू, नीलू, मदनलाल बुखारग्रस्त हैं।

कृष्ण लोक कॉलोनी में सूरज कश्यप, सुषमा, रीना कश्यप, रिंकू व पिंकी बुखार की चपेट में हैं। ज्यादातर मरीजों को तेज बुखार के साथ उल्टी-दस्त की भी समस्या है। गायत्री नगर में भी लोग बुखार व उल्टी दस्त से पीडि़त हैं। गणेश विहार में रितू, अभिलाषा, पीहू, आदि व पीयूष बुखार की जद में हैं।

ओपीडी बुखार के मरीजों से खचाखच: बलरामपुर, सिविल, लोहिया, रानी लक्ष्मीबाई, भाऊराव देवरस, लोकबंधु इत्यादि अस्पतालों की ओपीडी बुखार के मरीजों से फुल चल रही है। निजी अस्पतालों और क्लीनिक पर भी बुखार पीडि़तों की संख्या 20 फीसद तक बढ़ गई है।

हालत यह है कि विभिन्न अस्पतालों की इमरजेंसी में मरीजों को भर्ती करने की जगह नहीं है। वहीं, लोकबंधु अस्पताल के फिजीशियन डा. संजीव कुमार ने बताया कि डेंगू और वायरल बुखार से मरीजों को सतर्क रहने की जरूरत है।

रखें यह ध्यान

  • आसापस पानी का जमाव न होने दें। अगर कहीं पानी का जमाव है तो उसमें तेल डालें।
  • घर का बना शुद्ध व ताजा भोजन करें।
  • पीने का पानी का स्रोत अच्छा नहीं है तो उसे उबालकर पिएं
  • मच्छरों से बचने का हर उपाय करें।
  • पानी अधिक पिएं। ताजा और मौसमी फल तथा हरी सब्जियां जरूर खाएं।
  • हल्की कसरत या योग करें।
  • इस मौसम में नारियल के पानी का भी सेवन करें
Share.

Comments are closed.