दूसरों को ट्रैफिक नियमों का पाठ पढ़ाने वाले एक दारोगा जी खुद बिना नंबर की बुलेट से चल रहे थे। वे बुलेट लेकर शुक्रवार दोपहर कलक्ट्रेट में पहुंच गए।

सामने से आ रहे SSP ने उनकी बुलेट रुकवा ली। इसके बाद खुद ही चाबी निकालकर चले गए। बाद में ट्रैफिक पुलिस ने दारोगा की बाइक सीज कर दी।

मामला शुक्रवार दोपहर 12 बजे का है। एसएसपी मुनिराज जी. आफिस से अपनी गाड़ी से निकल रहे थे। तभी उन्हें कलक्ट्रेट के गेट की ओर से एक दारोगा बिना नंबर की बुलेट पर आते हुए दिखाई दिए। उन्होंने चालक से गाड़ी रुकवा ली। इसके बाद नीचे उतरकर दारोगा की बाइक रुकवा ली।

SSP को सामने देखकर दारोगा सकपका गया। एसएसपी ने उसकी बाइक पर नंबर प्लेट पर नंबर न डलवाने का कारण पूछा तो दारोगा कुछ नहीं बोल सका। एसएसपी ने खुद ही उसकी बाइक से चाबी निकाल ली और गाड़ी में बैठकर चले गए।

SSP के निर्देश पर ट्रैफिक पुलिसकर्मी वहां पहुंच गए।इसी बीच दारोगा वहां से चुपचाप चले गए। ट्रैफिक पुलिसकर्मियों ने दारोगा की बाइक सीज कर दी।

यह बुलेट बाइक दारोगा दीपक चौधरी की बताई गई है।इनकी तैनाती के बारे में जानकारी की जा रही है। एसएसपी मुनिरा जी. कुछ दिनों से नियमों का पालन न करने वाले पुलिसकर्मियों पर सख्ती कर रहे हैं।

परेड के बाद वाहनों की करते हैं चेकिंग
SSP मुनिराज जी. हर शुक्रवार को पुलिस लाइन में परेड के बाद पुलिसकर्मियों के वाहनों को खुद चेक करते हैं। वहां किसी पुलिसकर्मी की बाइक पर नंबर न मिलने वे कार्रवाई कराते हैं। इसके बाद भी कुछ पुलिसकर्मी अभी तक नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं। एेसे पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई की जा रही हैं।

Share.

Comments are closed.