भारी बारिश से उत्तर भारत के कई हिस्सों के हालात गंभीर हो गए हैं। पहाड़ों पर भूस्खलन की चुनौती खड़ी हो गई है, तो मौदानी इलाकों में बाढ़ का कहर है। दोनों राज्यों में नदी के तटवर्ती इलाकों में बाढ़ से हाहाकार मचा हुआ है। सड़कें पानी में डूब गई हैं और घरों में पानी भर गया है। लोग पलायन को मजबूर हैं।

बिहार के तटवर्ती जिलों में 22 लाख से अधिक की आबादी पानी से घिर गई है। राज्य में 12 जिले ऐसे हैं, जहां से गंगा गुजरती है। बक्सर, भोजपुर, पटना, सारण, वैशाली, बेगूसराय, मुंगेर, खगड़िया, भागलपुर और कटिहार के दियारा इलाके के सैकड़ों गांव जलमग्न हैं और हजारों की आबादी प्रभावित है। राजधानी पटना से सटे दानापुर के कई गांवों में पानी घुस गया है। लोग पलायन करने लगे हैं।

UP के 23 जिलों में 5 लाख से अधिक की आबादी बाढ़ से प्रभावित

उत्तर प्रदेश के कई इलाकों में बीते 24 घंटे में भारी बारिश हुई। राज्य के 23 जिलों के 1,243 गांवों में 5 लाख 46 हजार से अधिक की आबादी बाढ़ से प्रभावित है। सिंचाई विभाग ने बताया है कि बदायूं, प्रयागराज, मिर्जापुर, वाराणसी, गाजीपुर और बलिया जिले में गंगा नदी खतरे के निशान के ऊपर बह रही है। इसी तरह औरैया, जालौन, हमीरपुर, बांदा और प्रयागराज में यमुना भी खतरे के निशान के ऊपर है।

Share.

Comments are closed.