बिना ई-वेबिल के चमडे़ के सामान में छिपाकर लाया जा रहा लाखों का पान मसाला वाणिज्यकर की सचल दल इकाई ने पकड़ लिया। जीएसटी दल को गुमराह करने के लिए चमडे़ के सामान की डिलीवरी मुंबई दिखाई गई।

जब ट्रक को खंगाला गया तो उस पर भारी मात्रा में चमडे़ का सामान लदा हुआ था। पूरी लाट उधेड़ी गई तो उसके नीचे से दस लाख रुपये से अधिक का पान मसाला पकड़ा गया।

नौ लाख रुपये से अधिक कीमत के चमडे़ के विभिन्न आइटम मिले। जीएसटी दल ने टैक्स चोरी का साढे़ 12 लाख रुपये जमा कराया है।

सीएम के निर्देश पर चलाए जा रहे अभियान के तहत ज्वाइंट कमिश्नर अखिलेश कुमार सिंह और असिस्टेंट कमिश्नर दीप्ति अग्रवाल ने शहीद पथ के पास ट्रक संख्या एमएच04-इ वाई-9768 को रोका।

ट्रक चालक से ई-वेबिल मांगा गया। चालक द्वारा बताया गया कि चमडे़ का सामान मुंबई भेजा जा रहा है। कई आइटम के बारे में जानकारी दी। जब दल के सदस्यों ने ट्रक में मौजूद चमडे़ की आइटम की परतें पलटना शुरू कीं तो पर्तों के नीचे पान मसाला की बड़ी खेप मिली।

ज्वाइंट कमिश्नर ने बताया कि चमडे़ के सामान में पान मसाला छिपाकर लाए जाने का प्रकरण पहली बार सामने आया है। करीब 20 लाख का माल था।

ट्रक को खंगाला न गया होता तो मामूली धनराशि जमाकर माल लेकर चालक निकल जाता। टैक्स चोरी और पेनाल्टी का करीब साढे़ 12 लाख रुपये जमा कराया गया है।

Share.

Comments are closed.