उत्तर प्रदेश के पंचायत चुनावों का वो सीन याद है आपको, जब उपद्रवियों ने एसपी सिटी इटावा प्रशांत कुमार को कंटाप मार दिया था। इस मामले के बाद एसपी ने अपने आलाधिकारियों को फोन कर बताया था ‘

ब्लॉक चुनाव के दौरान हुई इस घटना को 50 दिन हो गये। इन 50 में थप्पड़ (Slap) मारने के बाद आरोपी युवक 4 दिन जेल में रहा था जहां से 16 जुलाई को उसकी जमानत हो गई थी।

युवक पुलिस टीम पर फायरिंग, पथराव व एसपी को थप्पड़ मारने के जुर्म में 12 जुलाई को जेल गया था। युवक की पहचान बढ़पुरा निवासी विवेक उर्फ संजू चौधरी के रूप में हुई थी।

आरोप में जेल गये संजू चौधरी को भाजपा की युवा विंग भाजयुमों (BJYM) का जिलाध्यक्ष बना दिया गया है।

अब एक तरफ भाजपा भाजपा की जीरो टोलरेंस अपराध नीति है तो दूसरी तरफ अपराधियों को संरक्षण देकर पार्टी कार्यकर्ता बनाए जाने की भी नीति यही कारण हो सकता है कि कानून व्यवस्था चीरहरण प्रदेश में प्रतिदिन हो रहा।

Share.

Comments are closed.