तालिबान ने तुर्की से काबुल एयरपोर्ट के लिए तकनीकी मदद मांगी है। तालिबान ने तुर्की से अपील की है कि वो अमेरिका समेत विदेशी सेनाओं की यहां से वापसी के बाद एयरपोर्ट के संचालन के लिए तकनीकी मदद दे।

लेकिन तुर्की के अधिकारियों ने रायटर्स से कहा है कि वो खुद अफगानिस्‍तान से अपनी सेनाओं की वापसी 31 अगस्‍त तक कर लेना चाहते हैं। तालिबान ने इस बारे में फैसला लेने का अधिकार पूरी तरह से तुर्की को दिया है। तालिबान की तरफ से कहा गया है कि हमनें ये फैसला तुर्की सरकार पर छोड़ा है कि वो मुश्किल घड़ी में इस काम के लिए अपनी मदद देगा या नहीं।

आपको बता दें कि बीते दो दशक से तुर्की की सेना नाटो सेना के तहत अफगानिस्‍तान में मौजूद थी। लेकिन क्‍योंकि अब नाटो की सेनाएं धीरे-धीरे वापस जा रही हैं और इसके लिए अमेरिका ने 31 अगस्‍त तक की समय सीमा तय की हुई है, तो तुर्की भी यहां से निकलने का मन बना चुका है।

हालांकि जुलाई में तालिबान ने खुद की इस बात की पेशकश की थी वो काबुल एयरपोर्ट की सुरक्षा की जिम्‍मेदारी ले सकता है। इस बात की इच्‍छा खुद तुर्की राष्‍ट्रपति रैसेप तैयप इर्दोगन ने जताई थी।

उनका कहना था कि यदि उनसे इस बारे में अपील की जाएगी तो वो ऐसा कर सकते हैं। लेकिन अब जबकि तालिबान अफगानिस्‍तान पर कब्‍जा कर चुका है तो स्थिति काफी बदल चुकी है। अब तुर्की की तरफ से ये भी कहा जा चुका है कि वो कम समय के नोटिस पर भी यहां से अपनी सेना को निकाल सकता है।

Share.

Comments are closed.