आगरा जिले के डौकी और ताजगंज क्षेत्र के दो गांवों में शराब पीने के बाद आठ लोगों की मौत हो गई है। इस घटना को उत्तर प्रदेश राज्य मानवाधिकार आयोग ने गंभीरता से लिया है।

पूरे मामले को संज्ञान में लेते हुए आयोग ने आबकारी आयुक्त, प्रयागराज को प्रकरण की जांच कराकर रिपोर्ट देने का आदेश दिया है।

आगरा में शराब पीने से मौतों का कारण पीड़ित परिवार के लोग मिलावटी शराब बता रहे हैं, जबकि पुलिस और प्रशासन के अधिकारी इससे इन्कार कर रहे हैं।

आगरा के जिलाधिकारी प्रभु एन. सिंह का भी कहना है कि कौलारा कलां और बरकुला में चार लोगों की मौत का कारण प्रथमदृष्टया जहरीली शराब का सेवन नहीं है।

वहीं, एसपी पूर्वी के वेंकट अशोक ने कहा कि डौकी क्षेत्र में प्रथमदृष्टया अत्यधिक शराब पीने से मौत का मामला लग रहा है। चार ठेकों को सील कर दिया गया है। इनके स्टाक की जांच कराई जाएगी। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने पर स्थिति स्पष्ट हो सकेगी। अभी जांच चल रही है।

बता दें कि आगरा के डौकी क्षेत्र के गांव कौलारा कलां निवासी अनिल, राधे और रामवीर ने रविवार रात 10 बजे साथ बैठकर शराब पी थी। अनिल की 10 वर्षीय बेटी चंचल ने बताया कि वह रात को खाना खाने के बाद सो गए।

रात में पेट में दर्द बताया और सुबह से ही उल्टियां होने लगीं। सोमवार तीसरे पहर तीन बजे स्वजन गांव के ही डाक्टर के पास ले गए। वहां ड्रिप लगाई, लेकिन हालत में सुधार नहीं हुआ।

स्वजन अनिल को अस्पताल ले गए। वहां अनिल ने पिता श्रीनिवास को बताया कि उसे दिखाई नहीं दे रहा, इसके बाद मुंह से झाग आने लगे। रात 11.30 बजे अनिल की मौत हो गई।

32 वर्षीय राधेश्याम उर्फ राधे अपनी ससुराल कौलारा कलां में रह रहा था। सुबह छह बजे शौच के लिए खेत पर गया। वहां उसने रात को लाई गई शराब और पी ली, इसके बाद वह अचेत होकर गिर पड़ा। होश आने पर सुबह आठ बजे घर पहुंचा।

बेटे अरुण ने बताया कि राधे को उल्टी हुई और घबराहट होने लगी। सीने में दर्द की शिकायत भी बताई। तीसरे पहर तीन बजे स्वजन राधे को अस्पताल ले गए, वहां चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया। स्वजन ने घर लाकर उसका अंतिम संस्कार कर दिया।

घबराहट और उल्टी की समस्या पर रामवीर को स्वजन ने अस्पताल में भर्ती कराया। मंगलवार शाम साढ़े चार बजे उसकी भी मौत हो गई। पड़ोस के गांव बरकुला निवासी 50 वर्षीय ग्याप्रसाद के चचेरे भाई राजेश ने बताया कि ग्याप्रसाद रविवार रात कौलारा कलां से शराब पीकर आए थे।

रात में उन्होंने पेट में जलन, घबराहट और आंखों से धुंधला दिखने की शिकायत की। शाम को स्वजन पहले गांव में डाक्टर के पास फिर फीरोजाबाद लेकर पहुंचे।

सोमवार शाम सात बजे उन्हेंं मृत घोषित कर दिया गया। चारों के स्वजन का कहना है कि कौलारा कलां में एक घर से कच्ची और मिलावटी शराब बिकती है। यहीं से शराब लाकर चारों ने पी थी।

ताजगंज क्षेत्र में दो दिन में चार लोगों की मृत्यु हो गई। 38 वर्षीय रामसहाय और 45 वर्षीय चंद्रपाल का स्वजन ने अंतिम संस्कार भी कर दिया। 45 वर्षीय ताराचंद का पुलिस ने पोस्टमार्टम कराया।

सीओ सदर राजीव कुमार ने बताया कि रामसहाय और चंद्रपाल के स्वजन ने कोई शिकायत नहीं की। नेत्रपाल की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत का कारण फेफड़ों की बीमारी बताई गई है।

मंगलवार तड़के गांव के ही 32 वर्षीय सुनील की भी पेट में दर्द और घबराहट के बाद मौत हो गई। पुलिस को स्वजन ने शराब पीने से मौत का मामला बताया। सुनील का डाक्टरों के पैनल से पोस्टमार्टम कराया जाएगा।

Share.

Comments are closed.