कोलकाता, 24 अगस्त ।पश्चिम बंगाल में कोरोना की तीसरी लहर के संभावित प्रसार से निपटने की तैयारी पहले से ही की जा रही है। मुख्यमंत्री

ममता बनर्जी इसे लेकर लगातार सतर्क रही हैं और अधिकारियों को भी निर्देश देती रही हैं। उसी के मुताबिक आज राज्य के मुख्य सचिव हरि

कृष्ण द्विवेदी ने राज्य सचिवालय नवान्न में आपातकालीन बैठक बुलाई है। इसमें सभी जिलों के जिलाधिकारियों को वर्चुअल जरिए से शामिल

होने को कहा गया है। इसके अलावा जिला प्रशासन के अधिकारियों और पुलिस अधीक्षकों को भी बैठक में उपस्थित रहने का निर्देश दिया गया

है। सचिवालय सूत्रों ने मंगलवार को बताया है कि आज समीक्षा बैठक में राज्य में कोरोना की स्थिति पर चर्चा होगी और तीसरी लहर के प्रसार से

निपटने की तैयारी पर भी बात की जाएगी। दरअसल ममता बनर्जी राज्य की मुख्यमंत्री होने के साथ-साथ स्वास्थ्य मंत्री भी हैं। उन्होंने पहले ही

अधिकारियों को निर्देश दे दिया है कि राज्य के सभी सरकारी अस्पतालों में कोरोना के नए वेरिएंट से निपटने की तैयारी होनी चाहिए।

ऑक्सीजन की आपूर्ति सुनिश्चित करने के साथ-साथ बेड की उपलब्धता और चिकित्सा कर्मियों की मौजूदगी पर्याप्त रखने के आदेश दिए गए हैं।

सूत्रों ने बताया है कि आज की बैठक में मुख्य सचिव कोरोना से बचाव में इस्तेमाल होने वाले इंजेक्शन रेमदेसीविर की कालाबाजारी पर पूरी

तरह से पाबंदी रखने और मरीजों की सुविधाओं के लिए अधिक से अधिक इंफ्रास्ट्रक्चर को विकसित करने पर जोर देंगे। इसके अलावा तीसरी

लहर की चपेट में सबसे अधिक बच्चों के आने की संभावना है क्योंकि देश में अधिकतर नागरिकों को वैक्सीन लग चुकी है और केवल बच्चे

वंचित हैं। इसीलिए राज्य में बच्चों के इलाज के लिए बेहतर सुविधाएं विकसित करने पर भी जोर दी जाएगी।

Share.

Comments are closed.