केंद्रीय मंत्री और बीजेपी नेता नारायण राणे के विवादित बयान के बाद महाराष्ट्र में विवाद गहराता जा रहा है। पूरे प्रदेश में शिवसेना और भाजपा कार्यकर्ता आमने-सामने आ गए हैं।

इस बीच नासिक में भाजपा के दफ्तर पर पत्थरबाजी का मामला सामने आया है। आरोप है कि पत्थरबाजी करने वाले लोग शिवसेना के कार्यकर्ता हैं। वहीं, सांगाली में राणे के पोस्टर पर कालिख पोतने का मामला भी सामने आया है।

इस बीच खबर है कि नासिक पुलिस राणे की गिरफ्तारी के लिए निकल गई है। दरअसल, राणे ने हाल ही में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को लेकर एक बयान दिया था।

इस बयान में उन्होंने ठाकरे की आलोचना करने के साथ ही उन्हें थप्पड़ मारने की बात कह डाली थी। इस बयान के बाद उन पर एफआईआर दर्ज की गई है। जिसके बाद नासिक पुलिस उनकी गिरफ्तारी के लिए रत्नागिरी के लिए निकल चुकी है।

क्या कहा था राणे ने?
राणे से सोमवार को महाड में पत्रकारों ने सवाल पूछा था कि स्वतंत्रता दिवस के दिन दिए भाषण में सीएम अमृत महोत्सव या हीरक महोत्सव को लेकर शंका मे दिखे। इस पर उन्होंने कहा था कि ठाकरे को नहीं पता कि देश को आजादी मिले हुए कितने साल हो चुके हैं।

अरे हीरक महोत्सव क्या? मैं होता तो कान के नीचे लगाता। स्वतंत्रता दिवस के बारे में आपको मालूम नहीं होना चाहिए? कितनी गुस्सा दिलाने वाली बात है यह। सरकार कौन चला रहा है, यह समझ ही नहीं आ रहा है।

राणे बोले- मुझे FIR की जानकारी नहीं
गिरफ्तारी के बारे में सवाल किए जाने पर केंद्रीय मंत्री राणे ने कहा कि मुझे इस बात की कोई जानकारी नहीं है कि मेरे ख़िलाफ़ FIR दर्ज की गई है।

मैंने कोई अपराध नहीं किया है। 15 अगस्त के बारे में कोई नहीं जानता तो क्या यह अपराध नहीं है? मैंने कहा था कि मैं थप्पड़ मार देता और यह अपराध नहीं है। उन्होंने मीडिया रिपोर्ट पर भी जमकर निशाना साधा।

उन्होंने कहा कि मीडिया को पहले वीडियो सत्यापित करके ही टीवी पर दिखाना चाहिए। अगर मीडिया ऐसा नहीं करता है, तो मैं उन पर केस करूंगा। मैं कोई आम आदमी नहीं हूं।

कमिश्नर ने दिए गिरफ्तारी के आदेश
मामले में नासिक पुलिस कमिश्नर दीपक पांडे ने बताया कि यह एक गंभीर मामला है। केंद्रीय मंत्री के खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई के लिए यहां से एक टीम भेजी गई है। वह जिस भी जगह पर होंगे, उन्हें कोर्ट के सामने पेश किया जाएगा। हम कोर्ट के फैसले का पालन करेंगे।

राणे के घर पर भी शिवसैनिकों का प्रदर्शन
वहीं, शिवसेना कार्यकर्ताओं ने मुंबई में राणे के घर पर भी धावा बोला है। यहां उनकी और पुलिस के बीच झड़प भी हुई। पुलिस को हालात पर काबू पाने के लिए लाठीचार्ज भी करना पड़ा। मामले में कई पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं। उन्हें पास के अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

शिवसेना सांसद विनायक राणे ने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अपील की है कि राणे को कैबिनेट से बाहर कर दिया जाए। वहीं, एनसीपी नेता नवाब मलिक ने कहा है कि कानून सबके लिए एक समान है। पुलिस अपना काम कर रही है।

Share.

Comments are closed.